Indira Rasoi Yojana 2022| संपूर्ण जानकारी 2022

Indira Rasoi yojana :- राजस्थान के वह लोग जो दिन की कमाई से अपना पेट भी सही तरह नहीं पाल पाते, या ऐसे लोग जो मजदूरी करने के लिए राज्य में रहते हैं और अपने खाने की व्यवस्था नहीं कर पाते, उनके लिए सरकार ने एक बेहतरीन योजना की शुरूआत की है। इस योजना का नाम है इंदिरा रसोई योजना।  राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत द्वारा Indira Rasoi Yojana शुरू करने का ऐलान किया है।

Indira Rasoi Yojana

इस योजना के माध्यम से राज्य के गरीब एंव निर्धन लोगों को सस्ते दामों पर पोष्टिक भोजन परोसा जाए इसकी व्यवस्था … Read the rest

Read more

Currency मुद्रा की परिभाषा, मुद्रा का अर्थ एवं प्रकार

उपयोगिता उपभोक्ता का व्यवहार 

अर्थशास्त्र सामाजिक विज्ञान की वह शाखा है, जिसमे उपयोगिता ,उपभोग, उपभोक्ता का कार्यान्वयन होता हैं जिसके अन्तर्गत वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन, वितरण, विनिमय और उपभोग का अध्ययन किया जाता है।

‘अर्थशास्त्र’ शब्द संस्कृत शब्दों अर्थ (धन) और शास्त्र की संधि से बना है, जिसका शाब्दिक अर्थ है – ‘धन का अध्ययन’।

किसी विषय के संबंध में मनुष्यों के कार्यो के क्रमबद्ध ज्ञान को उस विषय का शास्त्र कहते हैं,  इसलिए अर्थशास्त्र में मनुष्यों के अर्थसंबंधी कायों का क्रमबद्ध ज्ञान होना आवश्यक है।

अर्थशास्त्र का प्रयोग यह समझने के लिये भी किया जाता है कि अर्थव्यवस्था किस … Read the rest

Read more

Structures and resources आधारभूत -सरंचना एवं संसाधन

सरंचना एवं संसाधन

संसाधन

आर्थिक विकास में आधारभूत संरचना की महत्वपूर्ण भूमिका होती है आधारभूत संरचना में जो क्षेत्र समृद्ध होते हैं उनका विकास तेज गति से होता है आधारभूत संरचना को दो भागों में विभाजित किया जा सकता है

पहला भाग आधारभूत ढांचागत संरचना है इस में परिवहन विद्युत संचार को सम्मिलित किया जाता है इसके अलावा सिंचाई भी आधारभूत ढांचागत संरचना का भाग है क्योंकि कृषि विकास सिंचाई पर निर्भर है

आधारभूत संरचना का दूसरा भाग आधारभूत सामाजिक संरचना है इसमें प्रमुख रूप से मानव संसाधन विकास को सम्मिलित किया जाता है

राजस्थान का विकास के मामले में … Read the rest

Read more

Programs and schemes कमजोर वर्गों के लिए कार्यक्रम व योजनाएं

Programs and schemes कमजोर वर्गों के लिए कार्यक्रम व योजनाएं )

1. राजस्थान अन्नपूर्णा दूध योजना ( Rajasthan Annapoorna Milk Scheme )

Programs and schemes

राजस्थान सरकार ने प्राथमिक और उच्च प्राथमिक विद्यालयों में पढ़ रहे उन छात्रों के नामांकन में वृद्धि, ड्रॉप-आउट को रोकने, और पौष्टिक स्तर को बढ़ाने के लिए मध्य-भोजन भोजन योजना के लिए राजस्थान अन्नपूर्णा दूध योजना शुरू की है।

छात्रों का इसके लिए, मिड डे मील के आयुक्त प्रति छात्र एक लीटर दूध की मात्रा दी जाएगी और हर स्कूल में दूध के लिए डेयरी के अलावा जहां से भी हो निर्देश दिए जाएँगे।  शिक्षा … Read the rest

Read more

Development Plans: प्रमुख विकास परियोजनाएं Raj Economic

Development Plans प्रमुख विकास परियोजनाएं

Development Plans

क्षेत्रीय एवं जनजाति विकास कार्यक्रम ( Regional and tribal development program )

सूखा संभाव्य (सूखा प्रभावित) क्षेत्र कार्यक्रम (DPAP)- यह कार्यक्रम 1974 -75 में केंद्र प्रवर्तित स्कीम के रूप में प्रारंभ किया गयाmइसकी वित्तीय व्यवस्था में केंद्र व राज्यों का 75: 25 रखा गया इस कार्यक्रम का उद्देश्य सूखे की संभावना वाले क्षेत्रों की अर्थव्यवस्था में सुधार करना

इसके लिए भूमि व जल के उपलब्ध साधनों का सर्वोत्तम उपयोग किया जाता है ताकि इन क्षेत्रों में अकाल व सूखे के प्रतिकूल प्रभाव कम किए जा सके निम्न कार्यक्रमों पर बल दिया जाता है… Read the rest

Read more

Structures and resources आधारभूत-संरचना एवं संसाधन Rajasthan Economy

Structures and resources राजस्थान की आधारभूत-संरचना एवं संसाधन

संसाधन ( Resources) :-

हमारे पर्यावरण में उपलब्ध हर वह वस्तु जो हमारी आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये इस्तेमाल की जा सकती है जिसे बनाने के लिए हमारे पास प्रौद्योगिकी है और जिसका इस्तेमाल सांस्कृतिक रूप से मान्य है., उसे संसाधन कहते हैं।

संसाधन के प्रकार ( Types of resources ):- 

संसाधन को विभिन्न आधारों पर विभिन्न प्रकारों में बाँटा जा सकता है; जो नीचे दिये गये हैं

A.उत्पत्ति के आधार पर ( On the basis of origin )-: जैव और अजैव संसाधन ( Bio and Abiotic Resources )

B.समाप्यता के आधार पर ( On Read the rest

Read more

Accounting – Use in Concepts, Tools लेखांकन

लेखांकन- अवधारणा, उपकरण एवं प्रशासन में उपयोग

लेखांकन

आधुनिक व्यवसाय का आकार इतना विस्तृत हो गया है कि इसमें सैकड़ों, सहस्त्रों व अरबों व्यावसायिक लेनदेन होते रहते हैं। इन लेन देनों के ब्यौरे को याद रखकर व्यावसायिक उपक्रम का संचालन करना असम्भव है। अतः इन लेनदेनों का क्रमबद्ध अभिलेख (records) रखे जाते हैं उनके क्रमबद्ध ज्ञान व प्रयोग-कला को ही लेखाशास्त्र कहते हैं।

लेखांकन के इतिहास में दोहरा लेखांकन प्रणाली के जन्मदाता लुकास पेसियोली थे जो इटली के वेनिस नगर के रहने वाले थे उन्होंने अपनी पुस्तक de compaset of scripturis1494 में दोहर्क़ लेखा प्रणाली का वर्णन किया।m  Debit शब्द … Read the rest

Read more

Stock Exchange: स्टॉक एक्सचेंज क्या है इसके कार्य???

Stock Exchange

Stock Exchange (स्टॉक एक्सचेंज)

स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange) आधुनिक व्यावसायिक जगत में बडा ही महत्वपूर्ण स्थान रखती है |  किसी भी देश के स्टॉक एक्सचेंज बाज़ार उसके पूँजी बाज़ार में महत्वपूर्ण हिस्से होते है | संसार में इसका विकास संयुक्त पूँजी वाली कम्पनियों के जन्म तथा विकास के साथ प्रारम्भ हुआ लेकिन आधुनिक व्यवसाय प्रधान युग में यह एक अत्यंत महत्यपूर्ण संस्था बन गई है |

यह वह संगठित विपनी है जहाँ कम्पनियाँ निगम अथवा सरकार द्वारा निर्गमित अंश का क्रय विक्रय किया जाता है, जो बेचने के दृष्टी से निर्गमित की गई हो | इस प्रकार आजकल … Read the rest

Read more

Stock Market Glossary शेयर बाजार की पारिभाषिक शब्दावली

शेयर बाजार की पारिभाषिक शब्दावली

शेयर बाजार

1.आउटलुक ( Outlook ) :

रेटिग के साथ जुड़ा हुआ यह शब्द भी भावी संभावनाओं को दर्शाता है। कंपनी/संस्था या देश का भविष्य क्या है अथवा इसकी क्या संभावना है। जैसे सवाल पूछते समय आउटलुक शब्द का उपयोग किया जाता है। आउटलुक के आधार पर ही निवेश करने का निर्णय कम्पनी को लिया जाता है क्योंकि आउटलुक पॉजिटिव, निगेटिव या फिर स्टेबल (स्थिर) हो सकता है।

2. ऑर्डर बुक( Order book) :

कंपनी की ऑर्डर बुक में कितने ऑर्डर बकाया पड़े हैं। इसकी जानकारी के आधार पर कंपनी के कार्य परिणाम, भविष्य एवं स्थिरता का … Read the rest

Read more

Fiscal Policies राजकोषीय नीतियाँ क्या है???

राजकोषीय नीतियाँ

राजकोषीय नीतियाँ

Fiscal Policy Economics  

राजकोषीय नीति का संबंध राजस्व से है, जो कि सार्वजनिक आय, सार्वजनिक व्यय एवं सार्वजनिक ऋण से संबंधित है। मंदी के समय घाटे का बजट वांछित होता है, जबकि स्फीतिक दशाओं में आधिक्य बजट अपनाया जाना चाहिए। मंदी के समय आर्थिक क्रियाओं को गति देने के लिए समुद्दीपन व्ययअपनाया जाना चाहिए ।

मौद्रिक एवं राजकोषीय नीति या वस्तुतः प्रतिस्पर्धी न होकर पूरक है ,जिनके उचित समन्वय द्वारा ही पूर्ण रोजगार आर्थिक स्थायित्व के उद्देश्य प्राप्त किए जा सकते हैं क्षतिपूरक राजकोषीय नीति का आशय ऐसी नीति से है, जिसमें कर एवं व्यय में … Read the rest

Read more