February 7, 2023
Alwar, Rajasthan, India
Computer

कंप्यूटर का इतिहास व उत्पत्ति और विकास के बारे में हिंदी में जानकारी

कंप्यूटर का इतिहास व कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति और कंप्यूटर का विकास के बारे में हिंदी में जानकारी

कंप्यूटर का इतिहास ( history of computer in Hindi  ) :-  आज हम जानेंगे कंप्यूटर का इतिहास आज से लगभग 300 वर्ष पुराना है, मूल रूप से कंप्यूटर का विकास गणितीय गणना ओं को बड़ी संख्या में करने के लिए किया गया था !

कंप्यूटर का इतिहास यही व्याख्या करता है कि काफी कठोर प्रयास के बाद ही कंप्यूटर का विकास संभव हो सका है इस प्रक्रिया में विभिन्न प्रणालियों को जन्म दिया जैसे :- बेबीलोनियन प्रणाली, यूनानी प्रणाली, रोमन प्रणाली, और भारतीय प्रणाली, इनमें से बातें प्रणाली को स्वीकार कर लिया गया है !

भारत के प्राचीन  खगोल शास्त्री और गणितज्ञ आर्यभट्ट के द्वारा दशमलव प्रणाली को विकसित किया गया था यह 0-9 संख्या करण की आधुनिक दशमलव प्रणाली का आधार है तथा बाइनरी नंबर प्रणाली 0,1 का सर्वप्रथम ज्ञात विवरण प्रस्तुत किया गया ! इन दोनों  अंक  0 और  1  का ही प्रयोग प्रथम कंप्यूटर की संरचना के लिए मुख्य रूप से किया गया था 

दोस्तों क्या आपको पता है? कंप्यूटर शब्द का इस्तेमाल कंप्यूटर के निर्माण से बहुत पहले से ही होता रहा है पहले के समय में यांत्रिक उपकरणों को संचालित करने वाले विशेषज्ञ व्यक्तियों को ही कंप्यूटर के नाम से जाना जाता था समय के साथ साथ ही नियमित लोग अनेक प्रकार के बदलाव तथा सुधार किए गए तब जाकर आधुनिक कंप्यूटर का निर्माण संभव हो सका जिसे हम कंप्यूटर के इतिहास के बारे में जानते हैं ! आइए सबसे पहले कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति के बारे में जानते हैं!

कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति – Origin of computer term

तो सबसे पहले जानते हैं कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति कहां से हुई कंप्यूटर शब्द की उत्पत्ति कंप्यूट (Comput) शब्द से हुई है जो कि एक लैटिन भाषा का शब्द जिसका अर्थ होता है गणना करना अब आप कहेंगे कि यह सब तो ठीक है लेकिन कंप्यूटर शब्द के लिए लैटिन भाषा की कंप्यूटर को ही क्यों इस्तेमाल किया गया तो इसके पीछे भी कारण है

कंप्यूटर के जनक चार्ल्स बैबेज जिनका जन्म लंदन में हुआ था वहां की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी है तो अंग्रेजी से ही कोई शब्द क्यों नहीं लिया गया इसकी वजह यह है कि जो अंग्रेजी भाषा है उसके  तकनीकी शब्द खासतौर पर प्राचीन ग्रीक भाषा और लैटिन भाषा पर आधारित है इसलिए कंप्यूटर शब्द के लिए यानी एक ऐसी मशीन के लिए जो गणना करती है उसके लिए लैटिन भाषा के शब्द कंप्यूट (Comput)  को लिया गया

कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer in Hindi)

  • 1969 ई. में अमेरिका के रक्षा विभाग के वैज्ञानिकों ने शोध विभिन्न कंप्यूटरों को आपस में जोड़ने का अपार्टमेंट  (ARPANET) कंप्यूटर नेटवर्क विकसित किया। यह पैकेट स्विचिंग तकनीक पर आधारित विश्व का पहला कंप्यूटर नेटवर्क था। इसीबाद में इंटरनेट (Internet) विकसित हुआ।

  • 1971 में इंटेल कम्पनी के वैज्ञानिक डॉ. टेड हॉफ ने विश्व का पहला व्यापारिक माइक्रोप्रसेसर ‘इंटेल 4004’ बनाया, जिसके फलस्वरूप चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर्स का अस्तित्व प्रकट हुआ।

  • 1973 में जीरॉक्स कम्पनी ने पहला मिनी कंप्यूटर जीराक्स आल्टो (Xerox Alto) बनाया। इसमें हाई रेजोल्यूशन स्क्रीन एवं बड़ी आंतरिक व बाह्य मेमोरी का प्रयोग हुआ जो आगे चलकर पर्सनल कंप्यूटर का आधार बना।

  • वर्ष 1976 में एप्पल कम्पनी के संस्थापक स्टीव जॉब्स एवं स्टीव वॉजनायेक ने पहला पर्सनल कंप्यूटर (PC) निमित्त किया। इससे पर्सनल कंप्यूटरों (PC,s) का युग प्रारंभ हुआ।

  • 1980 ई. में बिलगेट्स (माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी के सह-संस्थापक) ने पर्सनल कंप्यूटर्स के लिए

  • ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System), एम.एस. डॉस (MS-DOS) का विकास किया।

  • आईबी.एम. कार्पोरेशन ने अपना पहला पर्सनल कंप्यूटर बाजार में उतारा। छोटे आकार, कम कीमत और अधिक क्षमता के कारण यह व्यापारिक दृष्टि से क्रांतिकारी सिद्ध हुआ। इसके बाद कंप्यूटर बनाने की होड़ प्रारम्भ हो गयी।

  • 1984 ई. में एप्पल कम्पनी ने मैकिण्टोष नामक पर्सनल कंप्यूटर बाजार में उतारा, जिसमें पहली बार ग्राफीकल यूजर इंटरफेस और माउस का उपयोग किया गया था।

  • • 1988 ई. में इंटेल ने इंटेल 486 नामक माइक्रोप्रोसेसर बनाया, जिसमें 10 लाख ट्रांजिस्टर लगे थे।यह एक 32 बिट माइक्रोप्रोसेसर था।

  • 1991 ई. में वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web-www) के उपयोग के नियम बनाये गये, जिनके कारण सूचनाओं को इंटरनेट पर डालने और उससे प्राप्त करने की मानक विधियाँ बनीं। इससे इंटरनेट के व्यापक उपयोग और खुल गया।

  • चहुंमुखी विस्तार का मार्ग 1992 ई. में माइक्रोसॉफ्ट ने ग्राफिकल यूजर इंटरफेस पर आधारित अपने ऑपरेटिंग सिस्टम विंडोज 3.1 को बाजार में उतारा। यह बहुत सफल रहा और ऐसे अनेक ऑपरेटिंग सिस्टमों के विकास का आधार बना। इसके बाद क्रमशः विंडोज 95, विंडोज 98 व अन्य नवीनतम वर्जन विकसित किये गये।

कम्प्यूटर का विकास (Development of Computer)

कम्प्यूटर का विकास (Development of Computer) वैज्ञानिकों के निरन्तर चल रहे प्रयासों का परिणाम है। वैज्ञानिकों का उद्देश्य कम्प्यूटर को अधिक उपयोगी, सुविधाजनक, सस्ता, छोटा, तीव्र गति से कार्य करने वाला एवं अधिक विश्वसनीय बनाना रहा है। इसी उद्देश्य के मद्देनजर कम्प्यूटर में निरन्तर सुधार होता जा रहा है।


द्वितीय विश्वयुद्ध (1939-1945) के बाद कम्प्यूटर का विकास तेजी से हुआ तथा इनके आकार-प्रकार में भी कई परिवर्तन हुए। आधुनिक कम्प्यूटर के विकास के इतिहास को तकनीकी विकास के आधार पर कई भागों में विभाजित किया जाता है, जिन्हें    कंप्यूटर की पीढ़ियां ( generation )  कहा जाता है। अभी तक कम्प्यूटर की पाँच पीढ़ियाँ अस्तित्व में आ चुकी हैं। प्रत्येक पीढ़ी के कम्प्यूटरों की विशेषताएँ और उनका संक्षिप्त परिचय निम्न प्रकार है

कंप्यूटर का इतिहास FAQ

नेपियर्स बोन्स (Napier’s bones) का आविष्कार किसने किया?

इसका आविष्कार वर्ष 1617 में जॉन नेपियर (स्कॉटलैंड) के द्वारा किया गया था।

पास्कलाइन (Pascaline) का आविष्कार किसने किया ?

पास्कलाइन का आविष्कार वर्ष 1642 में ब्लेज पास्कल (फ्रांस) के द्वारा किया गया।

जैकार्ड लूम (Jacquard Loom) का आविष्कार किसने किया ?

जैकार्ड लूम का आविष्कार वर्ष 1804 में जोसेफ मैरी जैकार्ड (फ्रांस) के द्वारा किया गया।

एनालिटिकल इंजन (Analytical engine) का आविष्कार किसने किया ?

चार्ल्स बैबेज (इंग्लैण्ड) के द्वारा वर्ष 1837 में एनालिटिकल इंजन आविष्कार किया गया।

टैबुलटिंग मशीन (Tabulating Machine) का आविष्कार किसने किया ?

टैबुलेटिंग मशीन का आविष्कार सन 1890 में हर्मन हॉलेरिथ (अमेरिका) के द्वारा किया गया।

मार्क – I (Mark – I) का आविष्कार किसने किया ?

हॉवर्ड एकेन (अमेरिका) के द्वारा मार्क – I का आविष्कार 1937 में किया गया।

एनिएक (Aniac) का आविष्कार किसने किया ?

एनिएक का आविष्कार जे. पी. एकर्ट और जॉन मौचली (अमेरिका) के द्वारा वर्ष 1946 में किया गया था।

एडसैक (Edsac) का आविष्कार किसने किया ?

मौरिस विलकेस (अमेरिका) के द्वारा वर्ष 1949 में एडसैक का आविष्कार किया गया।

यूनिवैक – I (Univac – I) का आविष्कार किसने किया ?

इसका आविष्कार वर्ष 1951 में जे. पी. एकर्ट और जॉन मौचली के द्वारा किया गया था।

यह भी पढ़ें 👇

निष्कर्ष  :-  आज की पोस्ट में हमने जाना कि कंप्यूटर का इतिहास  ( history of computer in Hindi  ) क्या था और कैसे कंप्यूटर का एक विशालकाय मशीनरी से लैपटॉप और डेक्सटॉप के रूप में विकसित हुआ कंप्यूटर की तकनीक लगातार बदल रही है !

यह उपकरण एक विशाल केलकुलेटर के रूप में शुरू हुआ था, लेकिन आज पूरी दुनिया के लोगों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण उपकरण बन गया है! आज कंप्यूटर तकनीक लगभग हर चीज में है!  क्या आपने कभी सोचा है अगर आपके पास मोबाइल डेस्कटॉप और लैपटॉप नहीं होता तो आप क्या कर रहे होते !  .

Leave feedback about this

  • Quality
  • Price
  • Service

PROS

+
Add Field

CONS

+
Add Field
Choose Image
Choose Video