Day

May 19, 2020

May 19, 2020

What is global environment change?

Contribution in global warming

CO2 (60%)

It is the most abundant green house gas produced by burning of fossil fuel, deforestation and change of land use. Its concentration in pre industry time was 280 and now it is 368 PPM.

CH4 (20%)

It is is product by freshwater wetlands, flooded rice field, biomass burning maintain in cattles, methanogen. Its concentration in pre industrial time was 700 ppb and now it is 1750ppb.

CFC (14%)

It is the most stable non flammable, nontoxic gas its source is legging of air conditioners refrigerators, evaporation of industrial solvent, aerosols and plastic foams.

N2O (6%)

Agriculture biomass burning industrial process burning of nitrogen rich fuel breakdown of nitrogen rich ferilizers, nitrate contaminated groundwater etc

Green House Effect

Atmosphere around Earth act as window glass pene that allows solar radiation to enter the Earth surface.

Contribution in global warming

It does not allow a long wave radiation emitted by earth to escape in space. These IR radiation are absorbed by green.

So the atmosphere radiate part of this energy back to earth called greenhouse flex.

These greenhouse gases keeps the atmosphere warm and fit for living called greenhouse effect.

Due to the presence of green house gases mean annual temperature of earth is — (15°C)

but in the absence of these gases it would drop sharply to -20°C.

The excessive increase in concentration of these gases would result in retaining more and more infra Red radiations.

It is called enhanced green house effect. This increase in global mean temperature is referred as global warming.

How to deal with global warming

  • Reducing green House gas mission by limiting the use of fossil fuels.
  • Increasing the forest area for photosynthetic utilisation of CO2.
  • Minimising the use of nitrogen ferilizers to reduce N2O.
  • Developing the substitutes for CFC.
  • Making people aware of the impacts of the impacts of climatic change.

May 19, 2020

What is pollution and its disadvantages?

Pollution

Pollutions are the materials/factors which causes adverse effect on natural quality of any component of the environment.

(A) there are two types of pollutions sources

  • Primary pollutants – they enter the atmosphere directly from versus source.
  • Eg oxides of sulphur nitrogen co etc
  • Secondary pollutants- they are format by chemical reaction between primary pollutant and other atmosphere constituents in the presence of sunlight.
  • The phenomenon of their formats is called synergism they are more ponts and toxin then primary pollutant.
  • Eg Hydrogen + nitrogen sunlight peroxyacetyl nitrate (PAN)

(B) there are two types of pollutant in in nature

  • Biodegradable – These pollutant kos waste products are slowly degraded by microbial action.
  • They are easily manageable by natural process engineered systems sach as waste treatments plant.
  • Non-Biodegradable –
  • They are either non degradable or degrade very slowly by decomposers in tha nature. They often accumulate do not enter biogeochemical cycles.
  • Eg Pesticides,plastic, soft drink cans, polyetylene bags,chlorinated hydrocarbons.

Kinds of Pollution

(A) Based on path of environment affected

  • Air pollution
  • Water pollution
  • Soil pollution

(B) best on origin of pollution

  • Natural—Volcanic eruption,forest fire,release of methane by paddy fild and alimentary canal of cattles.
  • Anthropogenic/Men made pollution– -Industrial, agricultural pollutions.

(C) Basel on physical natural of pollutants

  • Gaseous pollution
  • Thermal pollution
  • Noise pollution
  • Radioactive pollution

Air pollution

(A) best of organ of pollution pollutants are

  • Natural— originate by natural process
  • Example — Pollen dust, smoke (forest fire volcanic ash)etc.
  • Anthropogenic — originate bye man made  pollution either have fixed source. example — industries, mineral power plants etc

(B) based on nature of pollution pollutants are

  • Primary air pollutants — there exits age particulate matter of gaseous forms.
  • Particulate matter — these are tiny solid Particles/ liquid droplets that remains suspend in air. They cause respiratory disorders and alter atmospheric temperature.
  • Eg Soot, smoke dust, metal dust, pollene etc.
  • Gaseous forms — CO —
  • It is poisonous gas having 200 times more affinity for HB then oxygen.
  • It is causes headache and giddiness.

Pollution

Hydrocarbon/ volatile organic carbon

  • They are produced naturally by certain types of plants decomposition of organic matter burning of fossil fuel
  • and also by flooded rice field and swamps.
  • some of the hydrocarbons are carcinogenic

Eg Bengene, formaldehyde etc.

SO2

Burning of coal, oil refineries, ore smelters/ putrefaction produces SO2. It cause respiratory disorders and are harmful to plants. Epiphytes are the indicators of high SO2

Eg. Paramelia, usnea, cladonia and garden pea etc.

Nitrogen oxide

  • It is produced by combustion of fossil fuel in automobiles.
  • it it contributes to acid rain that causes skin disorders enhaces heart and lung problems.

CFC/ FREON/ AEROSOL

They are used as refregerants, propellents, solid plastic emitted during flying jet, it along with NOx react with ozone and deplete

the ozone layer which lead to the increase in UV radioactive on earth.

Ozone

It is an effective oxidant that errodes building surface and causes lung cancer.

PAN

  • It damage chloroplast so reduces photosynthetic efficiency and growth of plant.
  • it causes irritation of eyes and inhabits ET chain.

Phenol

Damage kidneys, liver, spleen and lung.

Aldehyde

It causes irritation in gastrointestinal and respiratory tract.

Acid rain

It is the presence of acid in rain water normal rain water H2O+CO2 is a weak acid of PH-6.5 but acid rain has TH 5.6 to 4.

Nitrogen oxide hydrocarbons formed during combustion of coal and petroleum are highly reactive in air and produces acid.

Wet deposition

Acidic water received through rain, foh, snow, dew, mist etc.

Dry deposition

Deposition of wind blow acidic gases and particles on the ground.

May 19, 2020

मुगलकालीन स्थापत्य कला व संस्कृति और प्रमुख इमारतें के बारे में??

मुगलकालीन स्थापत्य

सबसे पहले मुगलकालीन स्थापत्य कला के बारे में जानेंगे मुगलकालीन स्थापत्य कला क्या थी आइए देखते हैं !

1. बाबर (1526 -1530)

  • बाबर को उपवनो का राजकुमार कहा जाता है !
  • मुगलों के द्वारा जो बाघ लगवाए गए थे वे दृश्य-ए – बहिसत पद्धति से लगवाए गए थे !
  • कुरान में लिखा गया है कि जन्नत में तसनिस नामक एक पानी का झरना है जिससे जन्नत में पानी की नहर निकाली गई !
  • मुगलों के बागों में इसी प्रकार की पानी कि नहरें बनी है !
  • बाबर ने आगरा में आरामबाग या नूर अफगान बाग का निर्माण करवाया !
  • प्रारंभ में बाबर को इसी में दफनाया गया परंतु बाबर ने मरने से पहले इच्छा व्यक्त की उसे काबुल में दफनाया जाए ! जिसके बाद बाबर को काबुल में ले जाकर दफनाया गया !
  • बाबर ने धौलपुर में निलोकर बाग का निर्माण करवाया !
  • बाबर ने पानीपत (हरियाणा) में काबुली बाग मस्जिद बनवाई ! ये भारत में ईटों से निर्मित प्रथम मस्जिद है !
  • इसके अलावा बाबर ने रूहेलखंड (उत्तर प्रदेश) कि संभल नामक स्थान पर जामा मस्जिद का निर्माण करवाया था !
  • बाबर के सेनानायक मीर बाकी ने फैजाबाद (अयोध्या) मैं बाबरी मस्जिद का निर्माण करवाया था !

2. हुमायूं (1530 -40, 1555 – 1556 )

  • हुमायूं ने 1534 में दिल्ली में दीन-ए-पनाह अर्थात धर्म की शरण स्थली नामक नगर का निर्माण करवाया इसी के शेर मंडल पुस्तकालय की सीढ़ियों से गिरकर हुमायूं की मृत्यु हो गई !

3. अकबर (1556 -1605)

अकबर के शासन कला की बनी प्रथम इमारत दिल्ली में स्थित हुमायूं का मकबरा है !

इसका निर्माण अकबर की सौतेली मां हाजी बेगम ने ईरान के वास्तुकार मिर्जा ग्यास की देखरेख में करवाया !

यह मकबरा चार बाग शैली में निर्मित है !

मुगल काल में संगमरमर के पत्थर का पहला प्रयोग इसी मकबरे में किया गया है इसका केवल दोहरा गुंबद ही संगमरमर से निर्मित है बाकी पूरी इमारत है धौलपुर व करौली के लाल पत्थर से बनी हुई है !

अकबर के दाय मां अनगा ने महरौली में अपने पुत्र अदम खा का मकबरा बनवाया इसी को भूल भुलैया कहा जाता है !

अकबर ने कासिम खां की देखरेख में आगरा व लाहौर में दुर्गों का निर्माण करवाया !

आगरा के दुर्ग में अकबर ने दीवान-ए-आम व दीवान-ए-खास व जहांगीर महल जैसी इमारतें बनवाई !

इसके अलावा अकबर ने अटक दुर्ग पाकिस्तान, इलाहाबाद दुर्ग सबसे बड़ा व अजमेर स्थित दौलत खाने का निर्माण करवाया !

इस दौलत खाने में 1837 में अंग्रेजों ने अपना शास्त्र गार स्थापित किया था इसलिए वर्तमान में से मैगजीन दुर्ग कहते हैं !

1569-70 में अकबर ने बहउधिन फतेहपुर सीकरी के निर्माण की जिम्मेदारी सौंपी !

ईसाई संत मोसरोत के निर्माण के समय फतेहपुर सीकरी में स्थिति थी !

शेख सलीम चिश्ती फतेहपुर सीकरी में ही रहा करते थे तथा इन्हीं के आशीर्वाद से अकबर को जहांगीर नामक पुत्र की प्राप्ति हुई !

मुगलकालीन प्रमुख इमारतें

आइए सबसे पहले प्रमुख मुगलकालीन इमारतें देखते हैं जो कि निम्न प्रकार से हैं :-

1. जामा मस्जिद

  • यह लाल पत्थर से निर्मित है !
  • इस मस्जिद को फतेहपुर सीकरी का गौरव कहा गया है !
  • फर्ग्यूसन ने इसे पत्थरों की रुमानी कथा कहा है !

2. शेख सलीम चिश्ती का मकबरा

  • अकबर ने इसका निर्माण लाल पत्थर से करवाया परंतु जहांगीर व शाहजहां ने इसे तुड़वाकर संगमरमर से निर्मित करवा दिया गया !

3. इस्लाम खा का मकबरा

  • सर्वप्रथम वर्गाकार मेहराब का प्रयोग इसी मकबरे में किया गया है !

4. जोधाबाई का महल

  • यह फतेहपुर सीकरी की सबसे बड़ी आवासीय इमारत है !

5. तुर्की सुल्तान की कोठी

  • यह अकबर की प्रथम पत्नी रुकैया बेगम का महल था !
  • पर्शी ब्राउन ने इसे मुगल स्थापत्य का रतन कहां है !

6. मरियम महल

  • अकबर की माता हमीदा बानो का महल था !
  • हमीदा बानो मरियम मकानी के नाम से प्रसिद्ध है !
  • अकबर ने इसमें हिंदू देवी-देवताओं के चित्र बनवाएं थे जिन्हें बाद में औरंगजेब ने चूने से पुतवा दिया गया !
  • इसका उल्लेख इटली के मनुची ने अपनी पुस्तक स्टीरियो डी मोगर में किया !

7. पंचमहल

  • यह पांच मंजिला पिरामिड की आकृति की इमारत है इसमें कोई दरवाजा नहीं है !
  • नीचे वाली इमारत में 48 व ऊपर वाली इमारत में 4 स्तंभ हैं !

8. हिरण मीनार

  • अकबर ने अपने हाथी हिरण की स्मृति में इस 80 फीट ऊंची इस इमारत का निर्माण करवाया !

9. इबादत खाना

  • 1575 में अकबर ने इसका निर्माण करवाया !
  • प्रारंभ में केवल इस्लाम धर्म पर वाद विवाद किया जाता था !
  • इसके अलावा दो मंजिला बीरबल महल का निर्माण करवाया गया !
  • 1570-71 में अकबर ने गुजरात पर विजय प्राप्त की थी !
  • इस विजय के उपलक्ष में 1601 में बुलंद दरवाजा का निर्माण कराया गया !
  • यह जमीन से 176 फीट ऊंचा है !
  • भरतपुर के लोहागढ़ दुर्ग के फतेह बुरज से यह भी यह दरवाजा दिखाई देता है !
  • विसेंट अर्थर स्मिथ – फतेहपुर सीकरी नगर को पत्थरों में डाला गया रोमांस कहां !
  • फर्ग्यूसन – यह उस आदमी के मस्तिष्क की परछाई है जिसने उसकी कल्पना की !

4.जहांगीर (1605 – 1627)

  • अकबर ने अपने जीवन काल में ही सिकंदरा (आगरा) अपने मकबरे का निर्माण प्रारंभ करवा दिया था इसे जहांगीर ने पूर्ण करवाया !
  • यह बौद्ध शैली से प्रेरित है !
  • गुंबद विहीन है !
  • स्वतंत्र रूप से मीनारों का पहला प्रयोग इसी मकबरे में किया गया है !
  • जहांगीर की पत्नी नूरजहां या मेहरून्निसा ने अपने पिता मिर्जा गयास बेगम का एतमादुधोला का मकबरा आगरा के निकट बनवाया !
  • मुगलकाल में पूर्ण संगमरमर की बनी यह प्रथम इमारत है !
  • मुगलकाल में सर्वप्रथम पितरादूरा का प्रयोग इसी इमारत में किया गया था !
  • पितरादूरा सफेद संगमरमर पर रंगीन की जड़ाई को कहते हैं !
  • जहांगीर ने श्रीनगर में शालीमार बाग लगवाया और इसे शाहजहां ने पूर्ण करवाया !
  • जहांगीर ने अजमेर में दौलत बाग या सुभाष उद्यान का निर्माण करवाया !
  • इसी बाग के गुलाब के फूलों से नूरजहां की माता अस्मत बेगम ने इत्र का आविष्कार किया था !
  • नूरजहां के भाई आसफ खा ने श्रीनगर में डल झील के सामने निशाद बाग का निर्माण किया !
  • जहांगीर ने लाहौर में स्थित शाहदरा के दिलकुशा बगीचे में अपने मकबरे का निर्माण प्रारंभ करवाया जिसे नूरजहां ने पूर्ण किया !
  • जहांगीर व नूरजहां को इसी में दफनाया गया था !

5. शाहजहां (1628 -58)

  • शाहजहां के काल को मुगल स्थापत्य का स्वर्ण काल माना जाता है !
  • पर्षी ब्राउन ने लिखा है – जैसे आगस्टस ने रोम को ईटो से बना हुआ पाया और पत्थरों से बना हुआ छोड़ दिया उसी प्रकार शाहजहां ने अकबर के लाल पत्थर को संगमरमर में परिवर्तित कर दिया !
  • शाहजहां ने सर्वप्रथम अकबर के द्वारा निर्मित आगरा दुर्ग के दीवाने -ए-आम को जुड़वा कर संगमरमर का बनवाया !
  • शाहजहां ने पहली बार संगमरमर के पत्थर का प्रयोग इसी इमारत में किया !
  • इसके अलावा शाहजहां ने आगरा दुर्ग में संगमरमर की मोती मस्जिद बनवाई यह इस दुर्ग की सबसे सुंदर इमारत है !
  • शाहजहां ने दुर्ग में संगमरमर का मुसम्मन या शाहबुर्ज बनवाया !
  • औरंगजेब ने शाहजहां को इसी बुर्ज में बंदी बनाकर रखा !
  • इसके अलावा दुर्ग के परकोटे, नगीना मस्जिद का निर्माण करवाया !
  • शाहजहां की पुत्री जहांआरा ने आगरा की जामा मस्जिद बनवाई इसी को मस्जिद -ए – जहांनुमा कहते हैं !
  • दिल्ली की जामा मस्जिद का निर्माण शाहजहां के द्वारा करवाया गया !
  • 1638 में शाहजहां ने दिल्ली में शाहजहानाबाद नगर का निर्माण करवाया !
  • इसी ने हमिद अहमद की देखरेख में दिल्ली का लाल किला बनवाया था !
  • इसके दीवाने -ए-आम मैं बेबादल खा के द्वारा निर्मित तख्त ए ताऊस या मयूर सिंहासन रखा जाता था !
  • इसी में ही कोह-ए- नूर हीरा लगा हुआ था !
  • दीवाने खास की दीवार पर अमीर खुसरो की इस पंक्ति को लिखा गया” गर फिरदौस भर रूठन जमी जमीअस्त ……………….

ताजमहल

  • ताजमहल को मुगल स्थापत्य का सर्वश्रेष्ठ इमारत माना गया है !
  • 1631 में शाहजहां की पत्नी अर्जुमंद बानो बेगम या मुमताज की मृत्यु हो गई !
  • इस की स्मृति में आगरा में यमुना नदी के किनारे ताजमहल का निर्माण प्रारंभ करवाया
  • 22 वर्ष 9 करोड़ की लागत व मकराना के संगमरमर से यह बनकर पूर्ण हुआ !
  • इसका प्रधान वास्तुकार अहमद लाहौरी था जिसे शाहजहां ने नादिर उल हसरार की उपाधि प्रदान की !
  • इसका अर्थ होता है कि संसार के आदित्य में भी आदित्य !
  • इसका प्रधान कारीगर ईशा खा था !
  • हवेल ने ताजमहल को भारतीय नारी की साकार प्रतिमा कहा इसे स्थापत्य से नहीं बल्कि मूर्ति कला से संबंधित माना !

6. औरंगजेब ( 1658 -1707 )

  • इसने दिल्ली की लाल किले की मोती मस्जिद लाहौर की बादशाही मस्जिद वह हरियाणा के पिंजौर बाग का निर्माण करवाया था !
  • 1679 में औरंगजेब की पत्नी रबिया उद् दुर्रानी की मृत्यु हो गई !
  • इसी की स्मृति में औरंगाबाद (महाराष्ट्र) में मकबरा बनवाया इसे बीबी का मकबरा, दक्षिण भारत का ताजमहल या ताजमहल की फूहड़ नकल कहते हैं
  • औरंगजेब ने अपने स्वयं का मकबरा खुल्दाबाद (महाराष्ट्र) में बनवाया था !

http://Abc

May 19, 2020

दिल्ली सल्तनत का प्रशासन व स्थापत्य कला

दिल्ली सल्तनत प्रशासन

दिल्ली सल्तनत में सुल्तान सभी विभाग का प्रमुख होता था सुल्तान के बाद वजीर प्रमुख अधिकारी होता था वजीर वजारत सबसे बना है जिसका अर्थ है मंत्री परिषद

वजीर शासन के कार्य में राजा की सहायता किया करता था एवं अन्य अधिकारियों की नियुक्ति वजीर के द्वारा की जाती थी

ग़ुलाम वंश में कुतुबुद्दीन ऐबकदिल्ली सल्तनत

वजीर वित्त एवं राजस्व से संबंधित अधिकारी होता था अधिकारियों को वेतन देना और उनका स्थानांतरण करना वजीर के नियंत्रण में होता था

प्रशासन का आधार

  • एक धर्म ग्रंथ – कुरान
  • एक संप्रसू – खलीफा
  • एक – सुल्तान

प्रमुख विभाग

  1. दीवान ए वजारत-वित्त व राजस्व से संबंधित
  • दीवान ए अर्ज —
  • बलबन के काल में इसकी स्थापना हुई यह सैन्य विभाग से संबंधित था इसका प्रमुख आरिफ ए मामलिक कहलाता था इसका कार्य सैनिकों की भर्ती करना उनका हुलिया रखना तथा सैनिकों के लिए रसद की व्यवस्था करना
  • दीवान ए रसालत–यह विदेश विभाग से संबंधित था डॉक्टर आई एच कुरेशी ने इसे धार्मिक विभाग से संबंधित बताया

दीवान ए इंसा

यह राजकीय पत्राचार से संबंधित विभाग था

दीवान ए कजा

यह न्याय विभाग से संबंधित था काजी उल कुजात को जाट इस विभाग का प्रमुख होता था

वजीर की सहायता के लिए निम्न अधिकारी हुआ करते थे

1 दीवान ए तन – यह वेतन बांटने का कार्य करता था

2 मुशर्रफ – यह आय तथा व्यय का हिसाब रखता था

3 मुस्तफा – यह आय तथा व्यय की जांच करता था

प्रांतीय शासन

मोहम्मद बिन तुगलक के काल में कुल 23 प्रांत थे प्रांत में दो प्रकार के अधिकारी थे जो निम्नलिखित हैं

  • एक्तादार – शांति व्यवस्था बनाए रखना
  • ख्वाजा – इसका कार्य भू राजस्व से संबंधित था

जिला / शिक

एकता का विभाजन जिला या सिक में किया गया बलवान के काल में यह व्यवस्था लागू की गई सिक प्रमुख अधिकारी सिकदार होता था इसका कार्य जिले में शांति व्यवस्था बनाए रखना था लोदी वंश के शासकों ने जिले के लिए सरकार शब्द का प्रयोग किया

परगना

दिल्ली-सल्तनत में जिले का विभाजन परगना में किया गया परगने के प्रमुख अधिकारी थे

1 आमिल – इसका कार्य परगना में शांति व्यवस्था बनाए रखना था

2 मुशर्रफ – यह आय तथा व्यय से संबंधित अधिकारी था

3 कारकुन – यह राजस्व विभाग से संबंधित अधिकारी होता था

4 गांव – यह प्रशासन की सबसे निचली काई होती थी

सैन्य व्यवस्था दशमलव प्रणाली पर आधारित थी इसकी जानकारी तारीख ए फिरोज शाह से मिलती है जो निम्नलिखित है

  • पेदल
  • अश्व
  • गज

सेना – दिल्ली सल्तनत में दो प्रकार की सेना थी

  • हश्म ए क्लब- यह सुल्तान की सेना थी जो कि राजधानी में रहती थी
  • हश्म ए अत्रफ – यह प्रांतों की सेना थी

भू राजस्व व्यवस्था

  • इकता भूमि
  • खालसा भूमि
  • अनुदान भूमि
  • हिंदू सामंतों की भूमि

दिल्ली-सल्तनत में रवि व खरीफ दोनों प्रकार की फसलें बोई जाती थी इस काल में मुख्य फसल धान थी नगदी फसल गन्ना तेल सरसों व कपास थे सिंचाई के लिए रहट का प्रयोग किया जाता था बाबरनामा वह मलिक मोहम्मद जायसी के द्वारा रहट का उल्लेख किया गया है

उत्पादन के आधार पर भूमि

  • पोलाज
  • परती
  • चाचर
  • बंजर

भू राजस्व का निर्धारण

अलाउद्दीन खिलजी के काल में मुख्य रूप से भू राजस्व निर्धारण करने की तीन विधियां थी जो निम्नलिखित है

  • खेत बटाई – खेत में खड़ी फसल का किसान और राज्य के मध्य में बंटवारा
  • लंक बटाई – फसल काटकर उसका गट्ठर के रूप में बटवारा
  • रास बटाई – अनाज के रूप में बटवारा

पिजन

यह रुई धोने की कमान होती थी फारसी भाषा में रुई धोने का कार्य करने वाले नदा भी खेल आते थे रोहित होने पर भी दिल्ली-सल्तनत में कर लिया जाता था

तकली

दिल्ली-सल्तनत में कतई का पारंपरिक कार्य तकली कहलाता था तकली को फारसी भाषा में दुक कहा जाता था

सल्तनत कालीन स्थापत्य कला

1 क़ुतुब मीनार

2 बलबन का मकबरा दिल्ली में स्थित शुद्ध इस्लामी पद्धति पर निर्मित यह पहला मकबरा माना जाता है

3 अटाला मस्जिद जौनपुर में स्थित इस मस्जिद का निर्माण फिरोजशाह तुगलक के काल में शुरू हुआ तथा इब्राहिम शाह शर्की के काल में इस मस्जिद का निर्माण पूरा हुआ

4 हिंडोला महल मालवा में होशंग शाह के काल में इसका निर्माण हुआ

5 जहाज महल महमूद प्रथम के द्वारा मांडू में इस महल का निर्माण कराया गया

यदि यह जानकारी है आपको पसंद आ रही है तो इन्हें आगे शेयर करें धन्यवाद