हिंदी वर्णमाला|Hindi alphabet

भाषा की वह छोटी से छोटी इकाई जिसके टुकड़े नहीं किए जा सकते हो वर्ण कहलाते हैं वर्णों के मेल से शब्द बनते हैं शब्दों के मेल से वाक्य तथा वाक्यों के मेल से भाषा बनती है अतः वर्ण ही भाषा का मूल आधार है

हिंदी में वर्णों ( Hindi alphabet ) की संख्या 44 है मुंह से उच्चरित होने वाली ध्वनियों और लिखे जाने वाले इन वर्णो को दो भागों में बांटा जाता है
१- स्वर
२- व्यंजन

स्वर- जो बिना किसी स्वर (वर्ण)की सहायता के बोले जा सकते हैं वह स्वर कहलाते हैं यह 11 है

व्यंजन- जो स्वरों की सहायता से बोले जाते हैं वह व्यंजन कहलाते हैं मूल रूप से व्यंजन स्वर रहित होते हैं

हिंदी वर्णमाला

वर्णो के उच्चारित स्थान

          वर्ण.          उच्चारण स्थान
क वर्ग अआ(ः) ह–कंठ
च वर्ग इ ई य श——तालु
ट वर्ग ष र ड़ ढ़——मूर्द्धा
त वर्ग ल स————-दाँत
प वर्ग उ ऊ ————ओष्ट
ए ऐ—————–कंठतालु
व-_————–दन्तोष्ट
ओ औ————-कंठोष्ट
नासिक्य-ड ण ञ न म
अन्तस्थ–य र ल व
ऊष्म— श ष स ह
संयुक्त— क्ष त्र ज्ञ श्र

आप हमें हमारे फेसबुक पेज को भी फॉलो कर सकते है 👉👉 FB

हिंदी वर्णमाला हिंदी वर्णमाला