Category

Ancient History

April 30, 2020

उत्तर वैदिक काल में पंच महायज्ञ है? 1000-600BC भाग – 2

आपने उत्तर वैदिक काल में पंच महायज्ञ का पहला भाग जरूर पढ़ा होगा उसके लिए धन्यवाद अब दूसरे भाग में आपका स्वागत है जिसमें हम उत्तर वैदिक काल के अंत तक आपको अवगत कराएंगे

उत्तर वैदिक काल में पंच महायज्ञ

उत्तर वैदिक काल में जनसाधारण के लिए पंच महायज्ञ करना अनिवार्य कर दिया

1 ब्रह्मयज्ञ

2 देवयज्ञ

3 पितृयज्ञ

4 मनुष्ययज्ञ

5 भूतयज्ञ

ऋण यह तीन प्रकार के होते हैं

1 देव ऋण

2 ऋषि ऋण

3 पित्र ऋण

उत्तर वैदिक काल के सामाजिक संगठन

आधार=जन्म आधारित

वर्ण 4= ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य शूद्र

श्रेणी व्यापारियों का समूह

प्रधान व्यापारी श्रेष्ठ …

April 30, 2020

उत्तर वैदिक काल क्या है?? 1000-600BC भाग 1

उत्तर वैदिक काल के अनुसार राजा की उपाधि

1 विराट

2 स्वराट

3 सम्राट

4 भोज

5 राजा

उत्तर वैदिक काल में राजा का पद वंशानुगत हो गया राजा के द्वारा उपाध्य ली जाने लगी जिसकी जानकारी ऐतरेय ब्राह्मण से मिलती है

रतनिन क्या होता है??

राजा की सहायता के लिए अधिकारियों की एक परिषद रतनीन कहलाती है

इसकी जानकारी शतपथ ब्राह्मण ग्रंथ से मिलती है

इनकी संख्या 12 होती है

1 पुरोहित

2 सेनानी

3 ग्रामीणी

4 स्पर्श

5 पुरप

6 अक्षवाप =यह द्रुत क्रीड़ा में राजा का साथ देता था

7 भाग धुग =यह कर(tax) एकत्रित करने वाला …

April 14, 2020

महाजनपद और उनकी राजधानी अवंती क्या है ?

16 महाजनपद व राजधानी अवंती का उल्लेख बौद्ध ग्रंथ अनुत्तर निकाय तथा जैन ग्रंथ भगवती सूत्र में मिलता है

1 अंग

उत्तरी बिहार के वर्तमान भागलपुर व मुंगेर के क्षेत्र में यह महाजनपद था इसकी राजधानी चंपा थी

2 काशी

राजधानी — वाराणसी

3 वत्स

यह महाजनपद आधुनिक इलाहाबाद के क्षेत्र में पड़ता है था जिसकी राजधानी कौशांबी थी

4 मगध

मगध वर्तमान पटना का क्षेत्र था पहले इसकी राजधानी गिरी ब्रिज थी और बाद में मगध की राजधानी पाटलिपुत्र बनी

5 काेशल

कौशल महाजनपद की राजधानी प्रसनजीत थी

6 कुरु

कुरु वर्तमान दिल्ली व आसपास के क्षेत्र में किस …