Category

Ancient History

May 3, 2020

Mauryan architecture or architectural art: मौर्यकालीन कला संस्कृति और प्रशासन के बारे में जाने

मौर्यकालीन कला व संस्कृति

चंद्रगुप्त मौर्य (322BC-298BC)

1917 में जर्मनी के विद्वान डॉक्टर स्पिनर ने बिहार के बुलंदी बाग जिले कुमार नामक स्थल से चंद्रगुप्त मौर्य का लकड़ी का बना महल मिला था

यूनान के लेखक हेरियन ने इस महल के लिए लिखा शानो शौकत यह सुसा/एकबतना महलों से भी श्रेष्ठ था!

एकबतना महल इरान के हखमनी साम्राज्य के महल थे!

चीन के यात्री फाह्यान ने लिखा है कि इसका निर्माण मनुष्यों ने नहीं बल्कि देवताओं व फरिश्तों ने किया है

150 ईसवी, का शक शासक के रुद्रदामन का जूनागढ़ अभिलेख मिला था इसमें लिखा है कि चंद्रगुप्त मौर्य के …

April 30, 2020

हर्यक वंश व विदेशी आक्रमण कब कब हुए??

हर्यक वंश और विदेशी आक्रमण

हर्यक वंश 544-412 ईसा पूर्व तक रहा

राजधानी — गिरिव्रज

बिंबिसार को हर्यक वंश का

संस्थापक माना जाता है

बिंबिसार के काल में अवंतिका शासक

चंड प्रद्योत था

बिंबिसार ने अपने राज वैद्य जीवक को चंड प्रद्योत के दरबार में भेजा था

बिंबिसार की हत्या उसके पुत्र अजातशत्रु के द्वारा की गई

अजातशत्रु के काल में पहली बौद्ध संगीति का आयोजन किया गया

अजातशत्रु की हत्या उसके पुत्र उद यीनी ने कि

उदयिन ने गंगा व सोन नदी के संगम पर पाटलिपुत्र की स्थापना की थी

शिशुनाग वंश 412-344 BC

से सुना को इस वंश …

April 30, 2020

जैन धर्म क्या होता हें व् इसके बारे में जाने ?

जैन जिन शब्द से बना है जिसका अर्थ है इंद्रियों पर नियंत्रण करना

तीर्थंकर

तीर्थंकर से तात्पर्य है ऐसा व्यक्ति जो अपने ज्ञान के माध्यम से मानव को

इस संसार रूपी भवसागर से पार करने में मदद करें

कुल तीर्थंकर 24 माने गए हैं

1 ऋषभदेव

2 (22) अरिष्ट नेमी

3 (23) पार्श्वनाथ

महावीर स्वामी

महावीर

स्वामी की फोटो http://www.goldenclasses.com/जैन-धर्म/

चार महाव्रत

1 सत्य

2 अहिंसा

3 अस्तेय — चोरी नहीं करना

4 अपरिग्रह — जरूरत से ज्यादा संग्रह नहीं करना

महावीर स्वामी के द्वारा पांचवा महाव्रत ब्रह्मचर्य जोड़ा गया

महावीर स्वामी

जन्म – 540 ईसा पूर्व

स्थान – …

April 30, 2020

वैदिक सभ्यता 1500-600BC भाग – 3

वैदिक सभ्यता कि सामाजिक न्याय व्यवस्था

रिग वैदिक काल में राजा न्याय का प्रमुख होता था

छोटे स्तर पर होने वाले विवादों का निपटारा मध्यस्थ के द्वारा किया जाता था

रिग वैदिक काल में गाय को सबसे प्रमुख वस्तु माना गया है

पुलिस कर्मचारियों के लिए उम्र व न्यायाधीश के लिए प्रश्न विनायक शब्द का प्रयोग किया गया है

अपराधियों के लिए जीवगर्व शब्द का प्रयोग किया गया है

सामाजिक व्यवस्था

रिग वैदिक कालीन समाज पितृसत्तात्मक थे परिवार के मुखिया को ग्रहपति कहा जाता था

संयुक्त परिवार की प्रथा मौजूद थी विवाह को एक संस्कार माना गय

विवाह के प्रकार

April 30, 2020

वैदिक सभ्यता ( Vedic period) 1500-600BC भाग – 2

वैदिक सभ्यता की राजनीतिक व्यवस्था

रिग वैदिक कालीन राजनीतिक जीवन कबीलाई पद्धति पर आधारित तथा

इस समय प्रमुख रूप से पांच काबिले ते जिन्हें पंचजन्य कहा गया है जो निम्नलिखित हैं

1 अनु

2 धुह

3 यदु

4 तुर्वस

5 पुरू

राजनीतिक इकाई

1 परिवार

2 ग्राम

3 जन

4 जनपद

5 महाजनपद

6 साम्राज्य

कबीले के प्रमुख को जन्नस्य गोप कहा गया है जन्नस्य गोप युद्ध का स्वामी होता था

इस समय राजा पर नियंत्रण रखने के लिए सभा समिति विधत गण जैसी राजनीतिक इकाइयां मौजूद थी

नाम ऋग्वेद में उल्लेख

इंद्र 250

अग्नि। 200

गाय 176

सभा। 8…

April 30, 2020

वैदिक सभ्यता (Vedic period) 1500-600BC भाग – 1

वैदिक वेद से बना है जिसका अर्थ है ज्ञान वेद को अपोरुस्य कहा जाता है

क्योंकि ऐसा माना जाता है कि वेदों की रचना मानव के द्वारा नहीं की गई है

वैदिक सभ्यता के निवासी आर्य के लाए आर्य शब्द से तात्पर्य है श्रेष्ठ अभी जाते और कुलीन

आर्य जाति का सूचक नहीं है आर्यों की भाषा संस्कृति आर्यों को लिपि का ज्ञान नहीं था

आर्यों ने सुनकर अपने ज्ञान को आगे बढ़ाया इसलिए वैदिक साहित्य को श्रुति साहित्य भी कहा जाता है

बोगाज़कोई अभिलेख (1400) BC

वर्तमान तुर्की से प्राप्त इस अभिलेख से रिग वैदिक कालीन 4 देवताओं के …

April 30, 2020

चन्हूदड़ो से लिपिस्टिक के साक्ष्य मिले है

चन्हूदड़ो व् धोलावीरा सभ्यता

पाकिस्तान में सिंधु नदी के किनारे विकसित इस स्थल की खोज 1931 में एनजी मजूमदार के द्वारा की गई

चन्हूदरो एक औद्योगिक नगरी थी

अर्नेस्टमेके ने यहां से मनके बनाने का कारखाना खोजा था

चन्हूदड़ो से लिपिस्टिक के साक्ष्य मिले है

चन्हूदड़ो से प्राप्त एक इट से बिल्ली व कुता के पैर के निशान प्राप्त हुए है

धोलावीरा सभ्यता

1967 में जगपति जोशी के द्वारा इस स्थान की खोज की गई

R S विस्त के द्वारा यहां खुदाई का कार्य करवाया गया

धोलावीरा का शाब्दिक अर्थ — सफेद कुआं

धोलावीरा से 3 टीलों के साक्ष्य मिले …

April 30, 2020

कालीबंगा और मोहनजोदड़ो सभ्यता क्या हें ?

कालीबंगा और मोहनजोदड़ो सभ्यता

अन्य नाम

1 दीन हीन बस्ती(कच्ची इटो से निर्मित मकान)

2 काली चूड़ियां

स्थिति– हनुमानगढ़ राजस्थान घग्गर नदी के किनारे

जानकारी– एल पी तेसितोरी

खोजकर्ता –अमला नंद घोष 1952

उत्खनन कर्ता –बृजवासी लाल और बालकृष्ण थापर 1961

कालीबंगा से त्रिस्तरीय संस्कृति के साक्ष्य मिले हैं

1 प्रागैतिहासिक काल

2 आध ऐतिहासिक काल

3 ऐतिहासिक काल

साक्ष्य

1 जूते हुए खेत के साक्ष्य

2 अग्नि वेदिका के साक्ष्य

3 खोपड़ी की शल्य चिकित्सा के साक्ष्य

4 भूकम के

कालीबंगा में सड़कें एक दूसरे को समकोण पर काटती हुई बनाई गई जिसे ऑक्सफोर्ड या ग्रेड प्रणाली कहा गया …

April 30, 2020

हड़प्पा सभ्यता व् लोथल सभ्यता क्या हें ?

स्टुअर्ट पिग्गट ने हड़प्पा और मोहनजोदड़ो को सिंधु सभ्यता की जुड़वा राजधानी कहां है

वर्तमान पाकिस्तान के मोटगोमरी जिले में रावी नदी के किनारे सभ्यता का विकास हुआ

1826 में चार्ल्स मेशरन के द्वारा सर्वप्रथम इस स्थान के बारे में बताया गया

1856 में कराची से लाहौर के मध्य रेलवे लाइन बिछाते समय जॉन ब्रेटन व बिलियम ब्रेटन के द्वारा हड़प्पा से प्राप्त ईटों का प्रयोग किया गया

भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के महानिदेशक जॉन मार्शल के कहने पर 1921 में दयाराम साहनी के द्वारा यह खुदाई का कार्य करवाया गया

हड़प्पा से 2 किलो के साक्ष्य मिले हैं

पूर्वी …

April 30, 2020

उत्तर वैदिक काल शतपथ ब्राह्मण ग्रंथ क्या है? भाग 3

उत्तर वैदिक काल शतपथ ब्राह्मण ग्रंथ

हम उम्मीद करते हैं कि आपने भाग 1 और 2 पढ़ लिया होगा अब हम तीसरे भाग की तरफ हैं जिसमें उत्तर वैदिक काल की आर्थिक स्थिति’ के बारे में बात करेंगे http://उत्तर-वैदिक-काल-1000-600bc-भाग-2

उत्तर वैदिक काल आर्थिक स्थिति

आर्थिक स्थिति उत्तर वैदिक काल की कृषि पर निर्भर थी और इसकी जानकारी हमें शतपथ ब्राह्मण ग्रंथ से मिलती है इसे चार भागों में बांटा गया

जोताई बुवाई कताई मदाही

काड़क संहिता इसमें 24 बैलों के द्वारा जो तय की गई थी

शतपथ ब्राह्मण ग्रंथ से कृषि की जानकारी मिलती है कृषि की चार क्रियाएं बताई …