Category

Biology

August 30, 2020

What is Respiratory System?? Part 1

The major function of the respiratory system is to supply the body with oxygen and dispose of carbon dioxide.

To accom-plish this function, at least four processes, collectively called respiration, must happen:

  1. Pulmonary ventilation: movement of air into and out of the lungs so that the gases there are continuously changed and refreshed (commonly called breathing).
  2. External respiration: movement of oxygen from the lungs to the blood and of carbon dioxide from the blood to the lungs.
  3. Transport of respiratory gases: transport of oxygen from the lungs to the tissue cells of the body, and of carbon dioxide from the tissue cells to the lungs.
  4. This transport is accomplished by the cardiovascular system using blood as
    the transporting fluid.
  5. Internal respiration: movement of oxygen from blood to the tissue cells and of carbon dioxide from tissue cells to blood.
  6. Only the first two processes are the special responsibility of the respiratory system (Figure 22.1),
  7. but it cannot accomplish its primary goal of obtaining oxygen and eliminating carbon dioxide unless the third and fourth processes also occur.
  8. As you can see, the respiratory and circulatory systems are closely cou- pled, and if either system fails,
  9. the body’s cells begin to die from oxygen starvation.
  10. The actual use of oxygen and production of carbon dioxide by tissue cells, known as cellular respiration,
  11. is the cornerstone of all energy-producing chemical reactions in the body.
  12. We discuss cellular respiration, which is not a function of the respiratory system, in the metabolism section of Chapter 24.
  13. Because it moves air, the respiratory system is also involved
    with the sense of smell and with speech.
    Functional Anatomy

of the Respiratory System

Identify the organs forming the respiratory passageway(s)

In descending order until the alveoli are reached

Describe the location, structure, and function of each of

the following: nose, paranasal sinuses, pharynx, and larynx.

List and describe several protective mechanisms of the respiratory system.

The respiratory system includes the nose, nasal cavity, and paranasal sinuses; the pharynx; the larynx; the trachea; the bronchi and their smaller branches; and the lungs, which contain the terminal air sacs, or alveoli (Figure 22.1). Functionally, the system consists of two zones.

The respiratory zone, the actua site of gas exchange, is composed of the respiratory bronchioles, alveolar ducts, and alveoli, all microscopic structures.

The conducting zone includes all other respiratory passageways, which provide fairly rigid conduits for air to reach the gas ex-change sites.

The conducting zone organs also cleanse, humid- ify, and warm incoming air.

As a result, air reaching the lungs has fewer irritants (dust, bacteria, etc.)

than when it entered the system, and it is warm and damp, like the air of the tropics.

The functions of the major organs of the respiratory system are summarized in Table 22.1.


In addition to these organs, some authorities also include the respiratory muscles (diaphragm, etc.) as part of this system.

Al-though we will consider how these skeletal muscles bring about the volume changes that promote ventilation, we continue to classify them as part of the muscular system.


The Nose and Paranasal Sinuses The nose is the only externally visible part of the respiratory sys-tem. Unlike the eyes and lips, facial features often referred to po- etically, the nose is usually an irreverent target.

We are urged to our nose to the grindstone and to keep it out of other peo- ple’s business.

The nose (1) provides an airway for res- piration, (2) moistens and warms entering air, (3) filters and cleans inspired air, (4) serves as a resonating chamber for speech, and (5) houses the olfactory (smell) receptors.


The structures of the nose are divided into the external nose and the internal nasal cavity for ease of consideration.

The surface features of the external nose include the root (area between the eyebrows), bridge, and dorsum nasi (anterior margin), the latter terminating in the apex (tip of the nose) (Figure 22.2a).

Just inferior to the apex is a shallow vertical groove called the philtrum (fil-trum).

The external openings of the nose, the nostrils or nares (na-re-z), are bounded laterally by the flared alae.


The skeletal framework of the external nose is fashioned by the nasal and frontal bones superiorly (forming the bridge and root, respectively),

the maxillary bones laterally, and flex-ible plates of hyaline cartilage (the alar and septal cartilages, and the lateral processes of the septal cartilage) inferiorly (Figure 22.2b).

The skin covering the nose’s dorsal and lateral aspects is thin and contains many
sebaceous glands. The internal nasal cavity lies in and posterior to the external
nose.

The nasal cavity is divided by a midline nasal septum, formed anteriorly by the septal cartilage and posteriorly by the vomer bone and perpendicular plate of the ethmoid bone (see Figure 7.14b, p. 213).


“The nasal cavity is continuous posteriorly with the nasal por-tion of the pharynx through the posterior nasal apertures, also called the choanae (ko-a-ne; “funnels”)”.

The roof of the nasal cavity is formed by the ethmoid and sphenoid bones of the skull.

The floor is formed by the palate, which separates the nasal cavity from the oral cavity below.

An- teriorly, where the palate is supported by the palatine bones and processes of the maxillary bones, it is called the hard palate.

The unsupported posterior portion is the muscular soft palate.

The part of the nasal cavity just superior to the nostrils,called the nasal vestibule, is lined with skin containing seba-ceous and sweat glands and numerous hair follicles.

The hairs, or vibrissae (vi-bris-e; vibro – to quiver), filter coarse particles (dust, pollen) from inspired air.

The rest of the nasal cavity is lined with two types of mucous membrane.

The olfactory epithelium (mucosa), lining the slitlike superior region of the

August 14, 2020

मानव शरीर- रुधिर परिसंचरण तंत्र Blood circulatory system

रुधिर परिसंचरण तंत्र circulatory system

रक्त परिसंचरण तंत्र द्वारा शुद्ध रुधिर का परिसंचरण(Circulation) हृदय से धमनी की और होता हैं। तथा अशुद्ध रक्त का परिसंचरण शरीर में हृदय से शिराओं की और होता है। रक्त परिसंचरण तंत्र की खोज विलियम हार्वे ने कि। 

परिसंचरण तंत्र के दो प्रकार होते हैं जिन्हें क्रमशः खुला और बंद परिसंचरण तंत्र कहा जाता है।

खुला परिसंचरण तंत्र (Open Circulatory System)-

आर्थोपोडा संघ (कॉकरोच, केकड़ा, झींगा मछली,मच्छर,मक्खी आदि) तथा मोलस्का संघ (घेंघा ,सीपी,आक्टोपस) आदि के जंतुओं में खुला परिसंचरण तंत्र विकसित प्रकार का होता हैं। पक्षियों एवं स्तनधारियों में बंद परिसंचरण (रक्त वाहिनियों में बहता है।) तंत्र होता है। 

बंद परिसंचरण तंत्र (close Circulatory System)-

सभी विकसित जंतुओं में जैसे मछली, मेंढक,केंचुआ,ऐस्केरिस तथा स्तनधारी(मनुष्य में) भी इस प्रकार का परिसंचरण तंत्र पाया जाता है। कीटों में खुला परिसंचरण (रक्त सिधा अंगों के सम्पर्क में रहता है।)तंत्र होता है।

मनुष्य में बंद विकसित तथा दौहरे प्रकार का परिसंचरण तंत्र पाया जाता है। मनुष्य का परिसंचरण तंत्र तीन घटकों से मिलकर बना होता है।

1. हृदय
2. रक्त
3. रक्त वाहिनियां

मानव शरीर- परिसंचरण तंत्र (Human Body Circulatory System)

परिसंचरण तंत्र का अर्थ है रक्त का समस्त शरीर में परिभ्रमण। मानव के परिसंचरण तंत्र में रक्त नलिकाएं (Blood vessels) तथा हृदय मुख्य रूप से कार्य करते हैं। हृदय एक पेशीय अंग है, जिसका वजन लगभग 280 ग्राम होता है। हृदय एक पंप की तरह काम करता है। हृदय से रक्त धमनियों द्वारा शरीर के विभिन्न भागों को जाता है तथा वहां से शिराओं के द्वारा हृदय में वापस आता है। इस प्रकार रक्त, हृदय धमनियों और शिराओं द्वारा पूरे शरीर में जीवनभर लगातार भ्रमण करता रहता है।

circulatory system

परिसंचरण (Circulation) :

शुद्ध या ऑक्सीजनयुक्त (Oxygenated) रक्त फेफड़ों से हृदय में आता है। हृदय पंपिंग क्रिया द्वारा इस रक्त को धमनियों के द्वारा पूरे शरीर में पहुंचाता है। शरीर के रक्त में मिला ऑक्सीजन प्रयुक्त हो जाता है और अशुद्ध या ऑक्सीजन रहित (De-oxygenated) रक्त शिराओं द्वारा फिर हृदय की ओर आता है। हृदय इस रक्त को ऑक्सीजन प्राप्त करने के लिए फिर से फेफड़ों में भेजता है। इस प्रकार यह चक्र निरंतर चलता रहता है।

कोशिका तंत्र (Capillary Network) :

मुख्य धमनी शरीर के विभिन्न भागों में जाकर पतली-पतली शाखाओं में बंट जाती हैं। ये शाखाएं आगे और भी पतली-पतली शाखाओं में जाल की तरह बंट जाती हैं। इन्हें धमनी कोशिकाएं (Arterial capillaries) कहते हैं। धमनी कोशिकाओं का जाल, शिरा कोशिकाओं (Venal Capillaries) में बदल जाता है। शिरा कोशिकाएं एक-दूसरे से मिलकर शिरकाएं (Venules) बनाती हैं तथा शिरकाएं आपस में मिलकर मुख्य शिरा का निर्माण करती हैं। रक्त-परिभ्रमण तंत्र में शिरकाओं, शिराओं, हृदय धमनियों, धमनिकाओं, (Arteriole), धमनी कोशिकाओं और शिरा कोशिकाओं की नलियों का बंद चक्र है, जिसमें रक्त सदैव ही प्रवाहित होता रहता है।

1. हृदय ( heart)

मानव हृदय लाल रंग का तिकोना, खोखला एवं मांसल अंग होता है, जो पेशिय उत्तकों का बना होता है। यह एक आवरण द्वारा घिरा रहता है जिसे हृदयावरण कहते है। इसमें पेरिकार्डियल द्रव भरा रहता है जो हृदय की ब्राह्य आघातों से रक्षा करता है। हृदय की दीवार तीन विभिन्न स्तर- endocardium , Myocardium , Epicardium की बनी होती है। हृदय में मुख्य रूप से चार प्रकोष्ट होते है, जिन्हें लम्बवत् रूप से दो भागों में बांटा जा सकता है।

  1. दाहिने भाग में – बायां आलिन्द एवं बायां निलय
  2. बायें भाग में – दायां आलिन्द एवं दायां निलय

मगरमच्छ “क्रोकोडाइल” (घड़ियाल) ऐसा सरीसृप है। जिसमें 4 हृदय कोष्ठीय (chambered) होता है । पक्षी वर्ग एवं स्तनधारी वर्ग में हृदय 4 कोष्ठीय होता है।  केंचुए में हृदय की संख्या 4 जोड़ी(8 हृदय) पाई जाती है। काॅकरोच के हृदय में 13 चैम्बर पायें जाते हैं।

हृदय का वजन महिला – 250 ग्राम, पुरूष – 300 ग्राम होता है मानव शरीर का सबसे व्यस्त अंग हृदय है।

  • हृदय का कार्य शरीर के विभिनन भागों को रक्त पम्प करना है।
  • यह कार्य आलिन्द व निलय के लयबद्ध रूप से संकुचन एवं विश्रांती(सिकुड़ना व फैलना) से होता है। 
  • हृदय जब रक्त को धमनियों में पंप करता है तो धमनियों की दिवारों पर जो दाब पड़ता है उसे रक्त दाब कहते है। 
  • रक्त दाब मापने वाले यंत्र को स्फिग्नोमिटर कहते है। प्रत्येक रक्त कण को शरीर का चक्र पुरा करने में लगभग 60 सैकण्ड लगते हैं

  • IMP- इस क्रिया में ऑक्सीकृत रक्त फुफ्फुस शिरा से बांये आलिन्द में आता है वहां से बायें निलय से होता हुआ महाधमनी द्वारा शरीर में प्रवाहित होता है।
  • शरीर से अशुद्ध या अनाक्सीकृत रक्त महाशिरा द्वारा दाएं आलिंद में आता है और दाएं निलय में होता हुआ फुफ्फुस धमनी द्वारा फेफड़ों में ऑक्सीकृत होने जाता है। यही क्रिया चलती रहती है।
  • एक व्यस्क मनुष्य का हृदय एक मिनट में 72 बार धड़कता है। जबकि एक नवजात शिशु का 160 बार।
  • एक धड़कन में हृदय 70 एम. एल. रक्त पंप करता है। हृदय में आलींद व निलय के मध्य कपाट होते है।
  • जो रूधिर को विपरित दिशा में जाने से रोकते हैं। कपाटों के बन्द होने से हृदय में लब-डब की आवाज आती है। 
  • सामान्य मनुष्य में रक्त दाब (BP) 120/80 mm Hg पारे की दाब के बराबर होती है। 
  • मानव रक्त में हीमोग्लोबिन की मात्रा 12 से 15 ग्राम प्रति 100 मिलीलीटर पाया जाता है।
  • हृदय धड़कन का नियंत्रण पेस मेकर करता है। जो दाएं आलिन्द में होता है इसे हृदय का हृदय भी कहते है। 
  • हृदय को रक्त पहुंचाने वाली धमनी में “कोरोनरी धमनी” कहलाती हैं।
  • और इस धमनी में “कोलेस्ट्रॉल” की मात्रा बढ़ जाने पर हृदय आघात (हार्ट अटैक) हो जाता है।
  • हृदय धड़कन का सामान्य से तेज होना – टेकीकार्डिया
  • हृदय धड़कन का सामान्य से धीमा होना – ब्रेडीकार्डिया
  • हृदय के अध्ययन को कार्डियोलॉजी कहते है। प्रथम हृदय प्रत्यारोपण – 3 दिसम्बर 1967 डा. सी बर्नार्ड(अफ्रिका) ने किया एवम
  •  भारत में प्रथम 3 अगस्त 1994 डा. वेणुगोपाल द्वारा केरल में किया गया। जारविस -7 प्रथम कृत्रिम हृदय है।
  • जिसे रॉबर्ट जार्विक ने बनाया। कृत्रिम किडनी सुबोरायॅ ने बनायी।

सबसे कम धड़कन ब्लु -व्हेल के हृदय की 25/मिनट है  सबसे अधिक धड़कन छछुंदर – 800/मिनट है 

2. रक्त (blood)

  • रक्त एक प्रकार का तरल संयोजी ऊतक है। रक्त का निर्माण लाल अस्थि मज्जा में होता है
  • तथा  भ्रूणावस्था में प्लीहा में रक्त का निर्माण होता है। सामान्य व्यक्ति में लगभग 5 से 6 लीटर रक्त होता है।
  •  जो प्रतिशत में सात से आठ प्रतिशत पाया जाता है। रुधिर का निर्माण दो घटकों से होता है
  • जिन्हें क्रमशः रुधिर प्लाज्मा और रुधिर कणिकाएं कहा जाता है। 

रक्त का Ph मान 7.4 (हल्का क्षारीय) होता है। रक्त का तरल भाग प्लाज्मा कहलाता है। जो रक्त में 55 प्रतिशत होता है।

तथा शेष 45 प्रतिशत कणीय(कणिकाएं) होता है। रक्त का अध्ययन हिमोटॉलॉजी कहलाता है।

रक्त निर्माण की प्रक्रिया हीमोपोइसिस कहलाती है।

  • ऊंचाई पर जाने पर RBC की मात्रा बढ़ जाती है। लाल रक्त कणीका का मुख्य कार्य आक्सीजन का परिवहन करना है।
  • मानव शरीर में सामान्य रक्त चाप (Blood Fresher) 120/80 एम.एम. होता है। 
  • उच्च रक्तदाब की स्थिति हृदय के संकुचित होने पर बनती हैं जिसे सिस्टोल कहते हैं।
  • तथा निम्न रक्त दाब की स्थिति हृदय के फैलने पर बनती है जिसे डायस्टोल कहते हैं।

प्लाज्मा

  • प्लाज्मा में लगभग 92 प्रतिशत जल व 8 प्रतिशत कार्बनिक व अकार्बनिक पदार्थ घुलित या कोलॉइड के रूप में होते है।
  • प्लाज्मा शरीर को रोगप्रतिरोधक क्षमता प्रदान करता है। उष्मा का समान वितरण करता है।
  • हार्मोन को एक स्थान से दुसरे स्थान पर ले कर जाता है।

कणिय भाग(कणिकाएं)

रूधिर कणिकाएं संपूर्ण रुधिर का 40 से 45% भाग बनाती हैं जो कार्य एवं संरचना के आधार पर तीन प्रकार की होती हैं। जिन्हें क्रमशः आरबीसी, डब्ल्यूबीसी एवं ब्लड प्लेट्स कहा जाता है।

1. लाल रूधिर कणिकाएं (RBC)

आरबीसी को एरिथ्रोसाइट्स के नाम से जाना जाता है इसका निर्माण लाल अस्थि मज्जा वाले भाग से होता है। 

भ्रूणावस्था में आरबीसी का निर्माण प्लीहा तथा यकृत से होता है। आरबीसी संरचना में अंडाकार होती है।

ये कुल कणिकाओं का 99 प्रतिशत होती है। ये केन्द्रक विहीन कोशिकाएं है। इनमें हिमोग्लोबिन पाया जाता है।

हीमोग्लोबिन की केंद्रक में आयरन धातु पाई जाती है। जिसके कारण रक्त का रंग लाल होता है।

हीमोग्लोबिन O2 तथा CO2 का शरीर में परिवहन करता है।

इसकी कमी से रक्तहीनता(एनिमिया) रोग हो जाता है। लाल रक्त कणिकाएं प्लीहा में नष्ट होती है।

अतः प्लीहा को लाल रक्त कणिकाओं का कब्रिस्तान भी कहते है।

एक व्यस्क मनुष्य में लाल रक्त कणिकाओं की संख्या लगभग  5 से 5•5 लाख/mm 3 होती है इसका जीवन काल 120 दिन होता है। 

आरबीसी का मुख्य कार्य ऑक्सीजन का परिवहन करना है।

संसार के समस्त स्तनधारी प्राणियों के आरबीसी में केंद्रक नहीं पाया जाता है

लेकिन ऊंट तथा लामा दो ऐसे स्तनधारी प्राणी है। जिनकी आरबीसी में केंद्रक पाया जाता है। 

 ऊंट एक ऐसा स्तनधारी प्राणी है जिसकी आरबीसी का आकार सबसे बड़ा होता है। 

हिरण की आरबीसी का आकार सबसे छोटा होता है।

यदि किसी व्यक्ति को कुछ दिनों के लिए अंतरिक्ष या माउंट एवरेस्ट पर्वत पर छोड़ दिया जाए तो आरबीसी की संख्या और आकार दोनों बढ़ जाएंगे। 

2. श्वेत रक्त कणिकाएं (WBC)

ये प्रतिरक्षा प्रदान करती है। इसको ल्यूकोसाइट भी कहते है। WBC का निर्माण मनुष्य के शरीर में श्वेत अस्थि मज्जा से होता है।

डब्ल्यूबीसी का जीवनकाल मनुष्य के शरीर में लगभग 8 से 10 दिन का होता है। डब्ल्यूबीसी की संख्या मनुष्य के शरीर में लगभग 5000 से 9000 प्रति घन मिली मीटर होती है।

 आरबीसी और डब्ल्यूबीसी का अनुपात रुधिर में 600:1 होता है।

डब्ल्यूबीसी आकार में अमीबा के आकार की होती हैं अर्थात इसका कोई निश्चित आकार नहीं होता है। 

डब्ल्यूबीसी का मुख्य कार्य हानिकारक जीवाणुओं से शरीर की सुरक्षा करना है। 

केन्द्रक की आकृति व कणिकाओं के आधार पर श्वेत रक्त कणिकाएं 5 प्रकार की होती है।

रक्त में श्वेत रक्त कणिकाओं का अनियंत्रित रूप से बढ़ जाना ल्यूकेमिया कहलाता है। इसे रक्त कैसर भी कहते है।

आकार में सबसे बड़ी डब्ल्यूबीसी मोनोसाइट्स है लिंफोसाइट प्रकार की डब्ल्यूबीसी आकार में सबसे छोटी होती है। संख्या में सबसे अधिक न्यूट्रोफिल प्रकार की डब्ल्यूबीसी पाई जाती हैं।

3.रक्त पट्टिकाएं(प्लेटलेट्स)

  • रुधिर पटलिकाओं को थ्रोम्बोसाइट के नाम से जाना जाता है।
  • रुधिर पटलिकाओं का निर्माण लाल अस्थि मज्जा से होता है।
  • जो संरचना में प्लेट के आकार के होते हैं। ये केन्द्रक विहिन कोशिकाएं है जो रूधिर का धक्का बनने में मदद करती है
  • इसका जीवन काल 5-9 दिन का होता है। ये केवल स्तनधारियों में पाई जाती है।
  • रक्त फाइब्रिन की मदद से जमता है। 
  • इसकी संख्या मनुष्य के शरीर में लगभग 3 से 5 लाख प्रति घन मिलीमीटर होती है।

डेंगू जैसी विषाणु जनित बीमारी में शरीर में प्लेटलेट्स की संख्या कम हो जाती हैं। क्योंकि डेंगू के विषाणु प्लेटलेट्स को खा जाते हैं।

चिकित्सालयों के “ब्लड बैंक” में रक्त को लगभग 40 डिग्री फारेनहाइट ताप पर 1 महीने तक सुरक्षित रखा जाता है।

इस रक्त को जमने से रोकने के लिए सोडियम साइट्रेट तथा सोडियम ऑक्सजलेट रसायन मिलाए जाते हैं।

यह रसायन रक्त को जमाने वाले तत्व कैल्शियम को प्रभावहीन कर देते हैं।

लसिका तंत्र

लाल रुधिराणु अनुपस्थित रहती है । श्वेत रुधिराणु अधिक लिंफोसाइट सबसे अधिक होते हैं।

यह रक्त के समान परंतु रंगहीन द्रव है। इसके द्वारा लसिका कणिकाओं का निर्माण किया जाता है लसीका कोशिका लसीका नोड से निर्मित होती है।

जो एक सिरे पर खुली तथा दूसरे सिरे पर बंद होती है। लसीका द्रव शरीर के विभिन्न अंगों से हृदय की ओर बढ़ता है।

इसकी खोज लैंड स्टीनर ने की थी। इसका वर्गीकरण एंटीजन के आधार पर किया गया।

हल्के पीले रंग का द्रव जिसमें RBC तथा थ्रोम्बोसाइट अनुपस्थित होता है। केवल WBC उपस्थित होती है।

कार्य

  • रक्त की Ph को नियंत्रित करना।
  • रोगाणुओं को नष्ट करना।
  • वसा वाले ऊतकों को गहराई वाले भागों तक पहुंचाना।
  • लम्बी यात्रा करने पर लसिका ग्रन्थि इकठ्ठा हो जाती है, तब पावों में सुजन आ जाती है।

3. रक्त वाहिनियां (Blood vessel)

शरीर में रक्त का परिसंचरण वाहिनियों द्वारा होता है। जिन्हें रक्त वाहिनियां कहते है। मानव शरीर में तीन प्रकार की रक्त वाहिनियां होती है।
1. धमनी 2. शिरा 3. केशिका

धमनी (Artery )

शुद्ध रक्त को हृदय से शरीर के अन्य अंगों तक ले जाने वाली वाहिनियां धमनी कहलाती है। इनमें रक्त प्रवाह तेजी व उच्च दाब पर होता है। महाधमनी सबसे बड़ी धमनी है। किन्तु फुफ्फुस धमनी में अशुद्ध रक्त प्रवाहित होता है।

शिरा (Vein)

शरीर के विभिन्न अंगों से अशुद्ध रक्त को हृदय की ओर लाने वाली वाहिनियां शिरा कहलाती है। किन्तु फुफ्फुस शिरा में शुद्ध रक्त होता है।

केशिकाएं

ये पतली रूधिर वाहिनियां है इनमें रक्त बहुत धीमे बहता है।

Important Facts

  • मुख में बैक्टीरिया को मारने का काम कौन सा एंजाइम करता है- लाइसोजाइम
  • जार्विक-7 क्या है- कृत्रिम हृदय
  • कृत्रिम रक्त रासायनिक रूप से क्या होते हैं- फ्लोरो कार्बन
  • रक्त में पाई जाने वाली प्रमुख धातु कौन सी है- लोहा या आयरन
  • “रक्त का कब्रिस्तान” किसे कहते हैं-प्लीहा
  • रक्त का शुद्धिकरण कहां होता है-फेफड़ों में
  • किस धमनी में कोलेस्ट्रोल की मात्रा बढ़ जाने पर हृदय आघात हो जाता है- कोरोनरी
  • मनुष्य में हृदय धड़कन (स्पंदन) की दर प्रति मिनट औसतन कितनी होती है- 72 बार
  • किस शिरा में अपवाद स्वरुप शुद्ध रक्त का परिसंचरण होता है- पल्मोनरी
  • किस धमनी में अपवाद स्वरुप अशुद्ध रक्त का परिसंचरण होता है- पल्मोनरी

  • वह कौन-सा सृरीसप है,जिसमें 4 कोष्ठिय हृदय होता है।- क्रोकोडाइल (घड़ियाल)
  • रक्त एक तरल संयोजी उत्तक है। मानव हृदय हृदयावरण में बंद होता है।
  • लाल रुधिर कोशिकाओं का उत्पादन अस्थिमज्जा द्वारा होता है।
  • धमनी और शिरा में उत्कोष्ट एवं निलय में से रक्तचाप सबसे अधिक किसमें होता है- निलय
  • हिमोग्लोबिन एक प्रकार का प्रोटीन है।
  • रक्त में हीमोग्लोबिन, ऑक्सीजन ले जाने का कार्य करता है।
  • शल्य चिकित्सा के लिए कृत्रिम हृदय का प्रयोग सर्वप्रथम माइकल वैकी द्वारा शुरू किया गया था।
  • पेसमेकर दिल की धड़कन प्रारंभ करने का कार्य करता है।
  • मानव हृदय में बांय निलय के संकुचन पर रक्त महाधमनी की ओर प्रवाहित होता है।
  • हिमोग्लोबिन तथा क्लोरोफिल दो जीव हैं ,जिनमें क्रमशःलोहा तथा मैग्नीशियम तत्व पाए जाते हैं।
  • हीमोफिलिया रोग विलंबित रक्त स्कंदन से संबंधित है।
  • रक्त द्वारा ऑक्सीजन ले जाने के कार्य में लोहित कोशिकाएं भाग लेती है।

  • जिगर में ऑक्सीजन इधर-उधर पहुंचाने वाली धमनी को यकृत धमनी कहते हैं।
  • लाल रुधिर कोशिकाओं का महत्वपूर्ण घटक हीमोग्लोबीन है।
  • प्रतिदिन हमारे हृदय के कपाट(वाल्व) लगभग एक लाख बार खुलते और बंद होते हैं।
  • रक्त के थक्के जमने का कारण थ्राम्बिन हैं।
  • डॉक्टर द्वारा प्रयोग किए जाने वाला स्टेथोस्कोप ध्वनि के परावर्तन के सिद्धांत पर कार्य करता है।
  • हीमोफीलिया एक आनुवंशिक विकार है। यह रोग सर्वप्रथम ब्रिटेन की महारानी विक्टोरिया को होने के कारण यह रोग राजपरिवारों से संबंधित माना जाता है इसे राजशाही रोग भी कहा जाता है।
  • जीवित जीव में प्रतिरक्षियों का उत्पादन प्रेरित करने वाले पदार्थ को प्रतिजन या एंटीजन कहते हैं।
  • किसी बाहरी पदार्थ के मानव रुधिर प्रणाली में प्रविष्ट होने पर श्वेत रुधिर कणिकाएं अपनी प्रतिक्रिया प्रारंभ करने लगती हैं।
  • धमनियों की भित्तियों पर रक्त द्वारा डाले गए दाब को रक्त दाब कहते हैं।
  • गुर्दे को रक्त आपूर्ति करने वाले रुधिर वाहिका वृक्क धमनी कहलाती है।
  • फेफड़े से हृदय के लिए रक्त को ले जाने वाली रुधिर वाहिका को फुफ्फुस शिरा कहते हैं।
  • मांसपेशियों,तात्रिकाएं, जीभ तथा हृदय में से हृदय शरीर एक ऐसा अंग है जो कभी विश्राम नहीं करता है।
  • लसीका कोशिकाएं रोगों का प्रतिरोध करने में सहायता करती है।
  • प्रतिरक्षी कोशिकाएं पैदा करने वाली कोशिकाएं लसिकाणु या लिंफोसाइट होती है।

यदि आपको हमारे दुआर दिए गए नोट्स पसंद आ रहे है तो आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते है https://www.facebook.com/goldenclasses0/

August 14, 2020

मानव शरीर श्वसन तंत्र Human body respiratory system

श्वसन तंत्र (Human body respiratory system)

जीव के विशिष्ट लक्षण 3 ही होते हैं जिनमें वृद्धि, जनन और श्वसन आते हैं अर्थात सभी जंतु एवं वनस्पतियां दोनों ही श्वसन क्रिया में ऑक्सीजन ग्रहण करते हैं तथा कार्बन डाइऑक्साइड त्यागते हैं श्वसन वायवीय तथा अवायवीय हो सकता है। वायवीय श्वसन वायु की उपस्थिति में होता हैं जबकि अवायवीय श्वसन वायु की अनुपस्थिति में होता हैं, जिसमें गुलूकोस के अपूर्ण ऑक्सीकरण से एथिल अल्कोहल बनता है। वायवीय श्वसन अधिकांस बहुकोशिकीय जन्तुओ व मनुष्यों मै तथा अवायवीय श्वसन जीवाणु,यीस्ट, परजीवी, आदि में होता हैं। श्वसन अंग : मछली में गलफड़े तथा मेंढक, साँप, पक्षी, एवं मनुष्य में फ़ेफ़डे(2) श्वसन अंग होते हैं।

श्वसन एक जैविक घटना है इसमें ग्लूकोज ऑक्सीजन की उपस्थिति या अनुपस्थिति मे ऑक्सी कृत हो जाता है और ऊर्जा का निर्माण होता है यही ऊर्जा जीवो के दैनिक कार्यों में काम आती है जैसे शरीर का ताप बनाए रखना, हृदय की धड़कन आदि

जब ग्लूकोज का ऑक्सीकरण होता है तो ऊर्जा एटीपी के रूप में संचित हो जाती है परंतु Atp से ऊर्जा निकलने के बाद atp adp में बदल जाता है कोशिका में होने वाली इस क्रिया को आंतरिक श्वसन या कोशिकीय श्वसन कहते हैं कोशिका के माइट्रोकांड्रिया में यह क्रिया होती है इस कारण इसे कोशिका का पावर हाउस भी कहते हैं  हमारे दैनिक कार्य के लिए जितनी ऊर्जा की आवश्यकता होती है उसे बायोलॉजिकल ऑक्सीजन डिमांड कहा जाता है वसा में ऊर्जा का मान ग्लूकोज की तुलना में अधिक होता है परंतु त्वरित ऊर्जा का स्रोत होने के कारण थकान में ग्लूकोस दिया जाता है

फेफड़ों में करोड़ों कूपिकाए होती हैं जिसके कारण फेफड़ों का पृष्ठीय क्षेत्रफल कई गुना बढ़ जाता है और ऑक्सीजन का इस्तेमाल अधिक होता है जलीय जीवों में श्वसन के लिए जीव gills का प्रयोग करते हैं उसके द्वारा पानी में घुली हुई ऑक्सीजन ही इस्तेमाल हो पाती है अर्थात स्थलीय जीव जलीय जीव की तुलना में अधिक ऑक्सीजन इस्तेमाल करते हैं इसलिए इनकी बीओडी अधिक होती है

किनवण और पूयन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें अल्कोहल सिरका और कई अन्य जटिल का निर्माण होता है क्योंकि यह प्रक्रिया ऑक्सीजन के बिना होती है अतः यह अनाक्सी स्वसन का एक रुप है यह प्रक्रिया जीवाणु और fungi द्वारा की जाती है डबल रोटी, सिरका, दही आदि किण्वन के उदाहरण हैं

  • शरीर के अंदर श्वास के रूप में वायु का निश्श्वसन एवं उत्श्वसन (Inhalation and Exhalation) करने वाले तंत्र श्वसन तंत्र ( respiratory system)कहलाते हैं।
  • इसके अंतर्गत कण्ठ (Larynx),एपिग्लाटिस, श्वासनली, श्वसनी और फेफड़े आते हैं।
  • यह तंत्र शरीर क भीतर मुख्यतया वायु मार्ग का कार्य करता है।
  • एपिग्लाटिस भोजन निकलते समय श्वास मार्ग को बंद कर देता है। श्वास नली उपास्थि (कार्टिलेज लचीली हड्डी) की बनी होती है।
  • फेफड़े (Lungs फुस्फुस) में रुधिर का शुद्धिकरण गैसों के आदान-प्रदान से होता है।
  • गैसों का आदान प्रदान वायु कूपिकाओं के माध्यम से होता है।
  • आॅक्सीजन कूपिकाओं से रक्त में तथा कार्बन डाइऑक्साइड रक्त से कूपिकाओं में प्रवेश करता हैं।
  • वयस्क मनुष्य के फेफड़ों में 35 से 40 करोड़ वायु कूपिकाऐं होती हैं।
  • मनुष्य में दायां फेफड़ा तीन पिण्डों में तथा बायां फेफड़ा दो पिण्डों में विभाजित होता है।
  • कूपिकाओं में गैसीय आदान प्रदान क्रिया विसरण के द्वारा होती है। 
  • एम्फिसेमा बीमारी का संबंध फेफड़ों से होता है। अधिक सिगरेट पीने से होती है।
  • जिसमें फेफड़ों की कूपिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती है। और गैसीय आदान-प्रदान की क्रिया प्रभावित होती है।
  • फेफड़ों की सुरक्षा हेतु इनके ऊपर प्ल्यूरा नामक झिल्ली का आवरण पाया जाता है।

ग्लूकोज के ऑक्सीकरण के द्वारा उत्पन्न ऊर्जा को श्वसन कहा जाता है। श्वसन जीवों में 24 घंटे चलने वाली क्रिया हैं।

श्वसन तंत्र

श्वसन के प्रकार ( Types of respiration )

श्वसन दो प्रकार से होता हैं।

1..आॅक्सी श्वसन
2..अनाॅक्सी श्वसन

1. आक्सी श्वसन(Aerobic Respiration)

  • ऑक्सीजन की उपस्थिति में ग्लूकोज का पूर्ण ऑक्सीकरण आक्सी श्वसन कहलाता है।
  • आक्सी श्वसन की क्रिया में 38 एटीपी के रूप में ऊर्जा का उत्पादन होता है।
  • आक्सी श्वसन की क्रिया कोशिका के कोशिका द्रव्य और माइट्रोकांड्रिया के अंदर संपन्न होती हैं।
  • कोशिकाद्रव्य में ग्लाइकोलिसिस क्रिया के द्वारा ग्लूकोज पायरविक अम्ल में तोड़ा जाता है।
  • इस विखंडन के दौरान दो एटीपी के रूप में ऊर्जा का उत्पादन होता है।
  • ग्लाइकोलिसिस क्रिया को ऑक्सी और अनाक्सी श्वसन का सामान्य स्वरूप माना जाता है।
  • क्रेब्स चक्र की क्रिया माइट्रोकांड्रिया के अंदर संपन्न होती हैं। क्रेब्स चक्र के दौरान पायरविक अम्ल कार्बन डाइऑक्साइड और जल में भी विखंडित हो जाता है।
  • इस विखंडन के दौरान 36 ATP के रूप में ऊर्जा का उत्पादन होता हैं।
  • पायरविक अम्ल का विखंडन ऑक्सीजन की उपस्थिति और अनुपस्थिति दोनों में होता है।
  • जब मनुष्य अधिक कार्य करता हैं। तो मांसपेशियों में ऑक्सीजन के अभाव में पायरविक अम्ल का विखंडन लैक्टिक अम्ल और कार्बन डाइऑक्साइड में हो जाता है। 
  • लैक्टिक अम्ल के जमाव के कारण मांसपेशियों में दर्द होता है।

2. अनाक्सी श्वसन(Anaerobic Respiration)

  • ऑक्सीजन की अनुपस्थिति में ग्लूकोज का ऑक्सीकरण होता है। उसे अनाॅक्सी श्वसन कहते हैं।
  • मांसपेशियों में दर्द का प्रमुख कारण कोशिकाओं में ऊर्जा की कमी को माना जाता है। क्योंकि अनाक्सी श्वसन की क्रिया में दो एटीपी के रुप में ऊर्जा का उत्पादन होता है।
  • जब अनाक्सी श्वसन की क्रिया जीवाणु और कवक में होती है। तो इसे किण्वन(Fermentation) कहा जाता है।
  • किण्वन क्रिया के द्वारा शराब तथा सिरके का निर्माण होता है।

श्वासच्छोसवास (Breating)

  • सामान्य रूप से सांस लेने की क्रिया को श्वासच्छोसवास कहा जाता है।
  • इसके क्रिया में ऊर्जा का उत्पादन नहीं होता है। वायुमंडलीय ऑक्सीजन का फेफड़ों में ग्रहण करना और शरीर के विभिन्न भागों से आई हुई कार्बन डाइऑक्साइड गैस को वायुमंडल में मुक्त करने की क्रिया को श्वासच्छोसवास (Breating) कहा जाता है।
  • श्वसन क्रिया की शुरुआत डायफ्राम के क्रियाशील होने से होती हैं।
  • श्वसन के दौरान सर्वाधिक मात्रा में नाइट्रोजन गैस ली जाती है और सबसे ज्यादा नाइट्रोजन गैस ही (78%) छोड़ी जाती हैं।
  • कार्बन डाइऑक्साइड •03% (वातावरण में इतनी ही मात्रा में हैं।)ग्रहण की जाती है। तथा 4% छोड़ी जाती है।
  • गहरी सांस लेने पर साढ़े तीन लीटर गैस ग्रहण की जाती हैं। इस क्षमता को “वाइटल क्षमता”(Vital Capacity) कहते हैं।
  • सामान्य सांस में आधा लीटर गैस ग्रहण की जाती हैं।,जिसे “टाइडल क्षमता”(Tidal Capacity) कहते हैं।

मानव श्वशन तंत्र ( Human respiratory system ):-

1. ऊपरी श्वसन तंत्र ( Upper respiratory system ):-

  1. इसमें नासा छिद्र, नासिका गुहा(द्वितीयक श्वसन अंग-मुख), ग्रसनी व स्वर यंत्र(Larynx) शामिल है।
  2. घाटी ढक्कन (Epiglottis) श्वासनली व आहारनली के बीच स्विच का कार्य करता है।
  3. स्वर यंत्र में स्वर-रज्जु(Vocal Cords) आवाज पैदा करने का कार्य करते है।

2. निचला श्वसन तंत्र ( Lower respiratory system )

  • इसमें श्वासनली,श्वसनी,श्वसनीका व फेफड़े शामिल है। श्वासनली ( Teachea ) को उपास्थि के छल्ले हमेशा खुला रखते है।
  • वक्ष गुहा में पहुँच कर श्वासनली बाईं व दायीं श्वसनी(ब्रोंकाई) में बंट जाती है।
  • प्रत्येक श्वसनी द्वितीयक व तृतीयक शाखाओं में बंटकर अंत में श्वसनीका(Bronchi-ole)बनाती है।
  • सीमांत ब्रोंकिओल कुपिकाओं ( Alive-coli) में खुलती है।

एक जोड़ी फेफड़े वक्ष गुहा में स्थित होते है।फेफडों की कुपिकाएं केवल शल्की उपकला (Squamous Epithelium) की बनी होती है।इन पर केशिकाओं का जाल फैला होता है।

श्वसन मांसपेशियां (Respiratory muscles) :-

  • तनुपट या डायफ्राम (Diaphragm) वक्ष गुहा को उदर गुहा से अलग करता है।
  • इसके संकुचन से वक्ष गुहा का आकार बढ़ता है व वायु नासिका के रास्ते फेफडों में प्रवेश कर जाती है।
  • डायफ्राम के शिथिलन से वायु फेफडों से बाहर निकल जाती है।
  • फेफडों ने वायु के आवागमन(Ventilation) में डायफ्राम के अतिरिक्त इंटर क्रोस्टल पेशियां भी मदद करती है। श्वसन तंत्र

यदि आपको हमारे दुआर दिए गए नोट्स पसंद आ रहे है तो आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते है https://www.facebook.com/goldenclasses0/

August 14, 2020

मानव शरीर- तंत्रिका तंत्र Nervous system

तन्त्रिका तंत्र  ( Nervous system)

तंत्रिका तंत्र का निर्माण तंत्रिका कोशिका से होता है तंत्रिका कोशिकाओं को न्यूरॉन के नाम से जाना जाता है न्यूरॉन शरीर की सबसे बड़ी या लंबी कोशिकाएं हैं। तंत्रिका कोशिकाओं में पुनरुदभन की क्षमता सबसे कम होती है अर्थात मस्तिष्क में पुनरुदभवन की क्षमता सबसे कम होती है। यकृत मनुष्य के शरीर का ऐसा अंग है जिसमें पुनरुदभवन की संख्या सबसे ज्यादा होती है

Nervous syst

सजीवों में सभी अंगों के बीच समन्वयन स्थापित रखने एवं नियंत्रण का कार्य तंत्रिका द्वारा किया जाता है। इसके अंतर्गत सारे शरीर में महिन धागे के समान तंत्रिकाएं फैली रहती हैं यह वातावरणीय परिवर्तनों की सूचनाएं संवेदी अंगों से प्राप्त करके विद्युत आवेशों के रूप में इनका द्रुतगति से प्रसारण करती है और शरीर के विभिन्न भागों के बीच कार्यात्मक समन्वय स्थापित करती है

मनुष्य का तंत्रिका तंत्र बाह्यचर्म(Ectoderm) नामक भुर्णीय जनन स्तर से विकसित होता है। मस्तिस्क,मेरुरज्जु,तथा सभी तंत्रिकाएं मिलाकर तंत्रिका तंत्र का निर्माण करते है।

कार्य और संरचना के आधार पर तंत्रिका कोशिकाएं दो प्रकार की होती है।

  1. संवेदी
  2. प्रेरक तंत्रिका 

1. संवेदी तंत्रिका कोशिकाएं – संवेदी अंगों के द्वारा ग्रहण की गई सूचनाओं को मस्तिष्क में पहुंचाती है।

2. प्रेरक तंत्रिका कोशिकाएं-  मस्तिष्क के द्वारा दी गई सूचनाओं को शरीर के विभिन्न भागों में पहुंचाती है।

शरीर में सूचनाओं या संदेशों का आदान प्रदान करने वाले अंग सामूहिक रूप से तंत्रिका तंत्र कहलाते हैं। इसमें मुख्य रूप से 4 अंग होते हैं।

(1) तंत्रिका कोशिका
(2) तंत्रिका गुच्छिका
(3) मस्तिष्क
(4) मेरुरज्जु

तंत्रिका तंत्र को कार्यों के आधार पर 2 भागों में विभाजित किया गया है।

(1) केंद्रीय तंत्रिका तंत्र  ( इसमें मुख्यतया मस्तिष्क मेरूरज्जु तथा तंत्रिकाएं आती है )
(2) स्वायत्त तंत्रिका तंत्र ( इसमें मुख्यतया स्वतः संचालित होने वाले अंग जैसे हृदय,फेफड़ा, पाचन तंत्र, उत्सर्जन तंत्र आते हैं। )

मनुष्य में तंत्रिका तंत्र तीन भागों में विभक्त होता है:-

1. केंद्रीय तंत्रिका तंत्र:– १.मस्तिष्क २.मेरुरज्जु
2.परिधीय तंत्रिका तंत्र:- १.कपाल तंत्रिकाएं २.मेरु तंत्रिकाएं
3. स्वायत्त तंत्रिका तंत्र:- १.अनुकंपी तंत्रिका तंत्र २.परानुकंपी तंत्रिका तंत्र

तंत्रिका कोशिका (Neuron):-

मस्तिष्क,मेरुरज्जु तथा तंत्रिकाएं सभी ऊतक के बने होते है या तंत्रिका ऊतक की कोशिकाएं तंत्रिका कोशिका(Neuron)कहलाती है। तंत्रिका कोशिका शरीर की सबसे बड़ी कोशिका है। इस कोशिका का निर्माण केवल एक बार होता है अर्थात इनमें कोशिका विभाजन की क्षमता नहीं पाई जाती है।तंत्रिका कोशिका के तीन प्रमुख भाग:- १.साइटोन २.डेंड्रोन तथा ३.एक्सॉन होते है।

केंद्रीय तंत्रिका तंत्र:-

तंत्रिका तंत्र का वह भाग जो संपूर्ण शरीर तथा स्वयं तंत्रिका तंत्र पर नियंत्रण रखता है,केंद्रीय तंत्रिका तंत्र कहलाता है। केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का निर्माण मस्तिष्क तथा मेरुरज्जु के द्वारा होता है। इन अंगों में तंत्रिकाओं से प्राप्त संवेदनाओं का विश्लेषण होता है।

1.मस्तिष्क:-

मस्तिष्क केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का महत्वपूर्ण भाग है। यह पूरे शरीर तथा स्वयं तंत्रिका वक नियंत्रण कक्ष है। मनुष्य के मस्तिष्क का भार लगभग 1400 ग्राम होता है। मस्तिष्क अस्थियों के खोल क्रेनियम में बंद रहता है। क्रेनियम मस्तिष्क की बाहरी आघातों से रक्षा करता है। मस्तिष्क के चारों ओर आवरण पाए जाते है, जिन्हें मस्तिष्कावरण(Meninges) कहते है। यह आवरण तीन स्तरों का बना होता है:-

  1. दृढ़ तानिका:-इसमें कॉलेजन तंतु होते है
  2. जालतनिका:-इस स्तर में रुधिर केशिकाओं का जाल फैला होता है।
  3. मृदूतानिका:-यह परत मस्तिष्क से चिपकी रहती है।

:-मस्तिष्क के इन आवरणों में यदि संक्रमण(Infection)होता है,तो यह रोग “मेनिनजाइटिस”(मस्तिष्कावन शोध) कहलाता है।

पायामेटर में स्थित रक्तक जलिकाओं से लसिका के समान द्रव स्त्रावित होता जा जो प्रमस्तिष्क मेरुद्रव कहलाता है।यह मस्तिष्क की बाह्य आघातों से रक्षा करता है तथा मस्तिष्क से पोषक प्रदार्थों,ऑक्सीजन तथा अन्य उत्सर्जी पदार्थों का आदान-प्रदान करता है।

मस्तिष्क के भाग:-

1.प्रमष्तिष्क या अग्रमस्तिष्क (presence phalon):- यह पूरे मस्तिष्क का2/3भाग होता है। यह दो भागों सेरिब्रम एवं डाएनसिफेलोन का बना होता है। सेरिब्रम में अनेक उभार एवं गर्त पाए जाते हैं।

वलयी उभारों को गायरी एवं दो गायरीयो के मध्य धसे भाग को सलक्स कहते है सेरिब्रम में एक गुहा होती है जिसके बाहरी भाग को धूसर द्रव्य तथा भीतरी भाग को श्वेत द्रव्य कहते है।

 में दो भाग पाए जाते है। हाईपोथैलेमस व थैलेमस, इसका प्रमुख भाग हाइपोथैलेमस है जिसमें पिट्यूटरी ग्रँन्थि पाई जाती है।
कार्य:-डाएनसिफेलोन

  1. सेरिब्रम बुद्गीमता,इच्छाशक्ति,स्मृति,वाणी, चिंतन,याददास्त,संवेदनाओं का केंद्र है।
  2. थैलेमस में दर्द,ठंडा तथा गर्म को पहचानने के केंद्र स्थित होते है।
  3. हाइपो थैलेमस अन्तः स्त्रावी ग्रंथियों से स्त्रावित होने वाले हार्मोन का नियंत्रण करती है।
  4. यह भूख,प्यास,ताप नियंत्रण,प्यार,घृणा का केंद्र होता है।

2.मध्य मस्तिष्क (Mesencephalic) :- यह सेरिब्रम पेंडकल तथा कार्पोरा क्वाड्रिजिमिना दो भागों का बना होता है।

मानव मस्तिष्क में चार ऑप्टिक पिंड पाए जाते है अतः इन चारों को संयुक्त रूप से कार्पोरा क्वाड्रिजिमिना कहते है।

इनमें अग्र दो पिंडो में देखने के,पीछे के दो पिंडो में सुनने के केंद्र स्थित होते है।

सेरिब्रम कोर्टेक्स को मस्तिष्क के अन्य भागों तथा मेरुरज्जु से जोड़ता है।

इसका मुख्य कार्य आंखों से आने वाले संवेगों पर नियंत्रण रखना है आँख की पेशियों, दृष्टि के संवेदन, श्रवण संवेदन , गर्दन व धड़ की गति पर नियंत्रण इसी भाग द्वारा होता है।

 3.पश्च मस्तिष्क( Rhombencephalon )

:-  यह मस्तिष्क का सबसे पीछे का भाग है,जो सेरिबेलम(अनु मस्तिष्क) तथा मेडुला आब्लोंगेटा का बना होता है।

सेरिबेलम सेरिब्रम के बाद मस्तिष्क का दूसरा बड़ा भाग है। इस भाग में श्वेत द्रव वृक्ष की शाखाओं की तरह फैला होता है,जिसे “जीवन वृक्ष” या “darbar vitae” कहते है।

मेडुला आब्लोंगेटा मस्तिष्क का अंतिम भाग है।इसका अंतिम सिरा फोरामेन मैग्नम से मेरुरज्जु (Spinal Cord)के रूप में बाहर निकल जाता है।
कार्य’-

  • सेरिबेलम का मुख्य कार्य शरीर का संतुलन बनाए रखना है,यह शरीर की ऐच्छिक पेशयों के संकुचन पर नियंत्रण करता है।
  • मेडुला आब्लोंगेटा में Vasomoter Centre तथा श्वशन केंद्र पाए जाते है।
  • ह्दय स्पंदन , श्वसन दर , उपापचय, छींक, खांसी, लार आना, निगरण, उल्टी आदि अनैच्छिक क्रियाओं पर नियंत्रण रखता है।
  • यह चेतना , प्रवीणता सोच विचार आदि के लिये उत्तरदायी है।

मेरु रज्जु (Spinal Cord):-

मेडुला आब्लागेटा का पिछला भाग मेरुरज्जु बनाता है।यह रीढ़ की हड्डी की कशेरुकाओं की नाल में सुरक्षित रहता है।
कार्य:-

  • यह प्रतिव्रती क्रियाओं का नियंत्रण एवं संचालन करता है।
  • मस्तिष्क के आने-जाने वाले उद्दिपनों को संवहन करना।

Nervous system important facts 

  • साइटोरियम-मानव शरीर में पाई जाने वाली सबसे लंबी मांसपेशी जो जांघ में पाई जाती है
  • स्टेपिडियम- मध्य कर्ण में पाई जाने वाली मसल जो मानव शरीर की सबसे छोटी मांसपेशी है
  • न्यूरोलॉजी- इसमें तंत्रिका तंत्र की संरचना और कार्य के प्रभाव का अध्ययन किया जाता है
  • न्यूराइटिस-तंत्रिका कोशिका शोध
  • न्यूरेल्जिया- तंत्रिका की क्षति से उत्पन्न दर्द
  • माइग्रेन- यह दर्द धीरे-धीरे बढ़ता है यह शरीर की छोटी-छोटी आवाजों से भी शुरू हो सकता है इस रोग में दृष्टि में व्यवधान और उल्टियां होती है
  • न्यूरो टॉक्सिन-तंत्रिकीय उत्तकों को क्षतिग्रस्त कर देने वाला रसायन।सांप का जहर न्यूरोटॉक्सिन का उदाहरण है
  • इसके अतिरिक्त शीशा और और आर्सैनिक धातुओं के यौगिक मंद न्यूरोटॉक्सिन के उदाहरण है
  • तंत्रिका तंत्र-तंत्रिका ऊतक का बना होता है

न्यूरॉन के प्रकार- न्यूरॉन तीन प्रकार के होते हैं

1 संवेदी न्यूरोन- तंत्रिकीय आवेगों को केंद्रीय तंत्रिका तंत्र तक लेकर जाती है
2 प्रेरक न्यूरॉन- तंत्रिकीय आवेगो मस्तिष्क के आदेश को केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से लेकर अंग तक पहुंचाती है और
3 मिश्रित न्यूरॉन

  • स्पंजो- को छोड़कर अन्य सभी बहु कोशिकी जीवो में तंत्रिका कोशिका पाई जाती है
  • संवेदाग- संवेदांग में विशिष्ट तंत्रिका कोशिका विशेष उद्दीपन के लिए विशिष्टिकृत होती है
  • जो होने वाले परिवर्तनों को उद्दीपन के रूप में ग्रहण करती है इसमें ज्ञानेंद्रियां शामिल है
  • संचार केंद्र- मानव शरीर में मस्तिष्क एक समन्वयक केंद्र के रूप में कार्य करता है
  • संवेदाग किसी क्रिया के फलस्वरुप मस्तिष्क को उद्दीपन पहुंचाते हैं
    जिन के प्रति प्रतिक्रिया करने के लिए मस्तिष्क आदेश करता है
  • यह आदेश तंत्रिका कोशिकाओं द्वारा आवश्यक अंग तक पहुंचा दिया जाता है
  • मस्तिष्क और तंत्रिका आपस में मिलकर शरीर के संचार तंत्र का कार्य करती है
  • मांसपेशियां- मानव के शरीर में 639 मांसपेशियां होती हैं
  • लेब्रियेंथ-मानव शरीर के कान के लेब्रियेंथ नामक अंग में पेरिलिम्फ नामक तरल पदार्थ होता है जो शरीर के संतुलन को बनाए रखता है
  • अनुकंपी तंत्रिका तंत्र और परानुकंपी तंत्रिका तंत्र-एक दूसरे के विपरीत अनैच्छिक क्रियाओं को नियंत्रित करने के लिए कार्य करते हैं
  • प्रतिवर्ती क्रिया- प्रतिवर्ती क्रियाओं में संवेदना मेरूरज्जु तक पहुंचाई जाती है जहां से सामान्यता यह मस्तिष्क को गमन करती है
  • लेकिन इन क्रियाओं के लिए मेरुरज्जु ही शरीर की संबंधित पेशियों को आदेश देता है अगर प्रतिवर्ती क्रिया पीड़ादायक हो तो पीड़ा का आभास पीड़ा के हटने के बाद होता है
  • इस प्रकार शरीर को प्रभावित स्थान से हटने के लिए मेरूरज्जु का आदेश पहले ही हो चुका होता है उद्दीपन का ज्ञान उसके बाद होता है
  • यह क्रियाएं शरीर की संकटकालीन परिस्थितियों में रक्षा करती है और मूलभूत क्रियाएं मानी गई हैं

  • नॉर एड्रीनलिन- नामक रासायनिक द्रव्य न्यूरोट्रांसमीटर पदार्थ है
  • जन्म के बाद मानव के तंत्रिका उत्तक में कोई कोशिका विभाजन नहीं होता है।
  • हमारे शरीर में मस्तिष्क कोशिकाओं में सबसे कम पुनर्योजी शक्ति होती है।
  • प्रतिवर्ती (रिफ्लेक्स) क्रियाओं का नियंत्रण मेरुरज्जु द्वारा होता है।
  • किसी रोगी की जैविक मृत्यु का अर्थ हैं उसके मस्तिष्क के ऊतकों का मर जाना होता हैं।
  • वर्णांध व्यक्ति लाल और हरे रंगों में अंतर नहीं कर पाता हैं।
  • सोडियम पंप का कार्य तंत्रिका आवेग में होता है।
  • तंत्रिका कोशिका(न्यूरोन), तंत्रिका तंत्र की आधारभूत इकाई होती है ।
  • तंत्रिका कोशिका(न्यूरोन)तंत्रिका तंत्र में स्थित एक उत्तेजनीय कोशिका है।
  • इसका कार्य मस्तिष्क से सूचना का आदान प्रदान और विश्लेषण करना है। यह कार्य एक विद्युत रासायनिक संकेत के द्वारा होता है।
  • मानव मस्तिष्क का मेडुला आॅब्लोंगेटा निगलने और उगलने का नियामक केंद्र है।
  • मेडुला आॅब्लोंगेटा मस्तिष्क का सबसे पीछे का भाग होता है।
  • इसका मुख्य कार्य उपापचय,रक्तदाब आहार नाल के क्रमाकुंचन ग्रंथि स्राव तथा हृदय धड़कनों का नियंत्रण करना है।
  • जन्म के बाद मनुष्य के तंत्रिका ऊतक में कोई कोशिका विभाजन नहीं होता है
  • तंत्रिका कोशिकाएं विद्युत रासायनिक प्रेरणाओं के रूप में संवेदी अंगों से सूचनाओं का प्रसारण करती है।
  • मानव शरीर में सबसे लंबी कोशिका तंत्रिका होती है इसकी लंबाई 90 सेंटीमीटर होती है।

यदि आपको हमारे दुआर दिए गए नोट्स पसंद आ रहे है तो आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते है https://www.facebook.com/goldenclasses0/

June 30, 2020

What is Light प्रकाश उपयोग व कार्य क्या क्या है???

प्रकाश

प्रकाश

प्रकाश_एक प्रकार की ऊर्जा है इसका ज्ञान हमें आँखों द्वारा प्राप्त होता है जो विधुत चुम्बकीय तरंगों के रूप में संचारित होता है ।

प्रकाश_की दोहरी प्रकृति पायी जाती है ,

  • तरंग प्रकृति ( Wave nature )
  • फोटॉन (कण) प्रकृति ( Photon nature )

प्रकाश सरल रेखा में गमन करता प्रतीत होता है

सर्वप्रथम रोमर नामक वैज्ञानिक ने बृहस्पति ग्रह के उपग्रहो की गति को देखकर प्रकाश का वेग ज्ञात किया था डच भौतिकशास्त्री हाइजेन ने_प्रकाश का तरंग सिद्धांत दिया

सर्वप्रथम अंग्रेज भौतिकीवीद् व गणितज्ञ न्यूटन ने बताया कि_प्रकाश श्वेत_प्रकाश सभी रंगो के_प्रकाश से मिलकर बना है

आपतित किरणें ( Incident rays ) – किसी परावर्तित होने वाली सतह पर पड़ने वाली_प्रकाश की किरणें आपतित किरणें कहलाती हैं।

परावर्तित किरणें ( Reflected Rays )- किसी वस्तु से टकराकर लौटने वाली किरणें परावर्तित किरणें कहलाती हैं।

अभिलम्ब ( Perpendicular )– एक काल्पनिक रेखा जो परावर्तित होने वाली सतह पर प्रकाश की किरण पड़ने के बिन्दु पर लम्ब होती है, को अभिलम्ब या परावर्तित होने वाली सतह पर लम्ब कहते हैं।

आपतन कोण ( Angle of incidence )- प्रकाश की किरणों द्वारा आपतन बिन्दु तथा उस बिन्दु पर अभिलम्ब के साथ बनाने वाले कोण को आपतन कोण कहते हैं।

परावर्तन कोण ( Angle of reflection )– प्रकाश की किरणों द्वारा प्ररावर्तन के बिन्दु तथा अभिलम्ब के साथ बनाये जाने वाले कोण को परावर्तन कोण कहते हैं।

वास्तविक प्रतिबिम्ब ( Real image )  – प्रतिबिम्ब जिसे पर्दे पर उतारा जा सकता है, को वास्तविक प्रतिबिम्ब कहते हैं। वास्तविक प्रतिबिम्ब हमेशा दर्पण के सामने की ओर बनता है।

आभासी प्रतिबिम्ब ( Virtual image )-  प्रतिबिम्ब जिसे पर्दे पर नहीं उतारा जा सकता है, को आभासी प्रतिबिम्ब कहते हैं। आभासी प्रतिबिम्ब हमेशा दर्पण के पीछे बनता है।

June 29, 2020

Work, Energy and Power कार्य, ऊर्जा एवं शक्ति

कार्य, ऊर्जा एवं शक्ति

कार्य ( Work )

परिभाषा- जब किसी बल का क्रिया बिंदु की बल की दिशा में विस्थापन होता है तो यह समझा जाता है कि बल ने कार्य किया ह

  • नियत बल द्वारा किया गया कार्य- यदि आरोपित बल की दिशा तथा परिमाण नियत हो तो यह नियत बल कहलाता है |
  • परिवर्ती बल द्वारा किया गया कार्य –यदि आरोपित बल की दिशा या परिमाण या दोनों परिवर्तित हो तो यह परिवर्ती बल द्वारा किया गया कार्य कहलाता है|

कार्य का मात्रक जूल होता है कार्य करने की क्षमता को ऊर्जा कहते हैं कार्य तथा ऊर्जा के मात्रक समान होते हैं किसी निकाय की संपूर्ण ऊर्जा नियत रहती है ऊर्जा नष्ट की जा सकती है नहीं उत्पन्न की जा सकती है इसे एक प्रकार की ऊर्जा से दूसरी ऊर्जा में बदला जा सकता है जैसे

  • विद्युत ऊर्जा  – यांत्रिक ऊर्जा
  • यांत्रिक ऊर्जा  – विद्युत ऊर्जा
  • प्रकाश ऊर्जा – विद्युत ऊर्जा
  • विद्युत ऊर्जा – विद्युत ऊर्जा
  • नाभिकीय ऊर्जा –  विद्युत ऊर्जा
  • रासायनिक ऊर्जा-  विद्युत
  • विद्युत ऊर्जा – रासायनिक

ऊर्जा एक अदिश राशि है आइंस्टीन का सिद्धांत के अनुसार दांत होते हैं

E=MC^2

M is mass and
C is light velocity
E is energy

यांत्रिक ऊर्जा दो प्रकार की होती है

  1. गतिज ऊर्जा
  2. स्थितिज ऊर्जा

वस्तु की गतिज ऊर्जा विराम अवस्था प्राप्त करने से पूर्व वस्तु द्वारा किए गए कार्य के बराबर होती है

गतिज ऊर्जा=1/2mv^2

Where m is mass and V is velocity of particle

रेखीय संवेग P=MV होता है इस प्रकार हम गतिज ऊर्जा को एक दूसरे रूप में व्यक्त कर सकते हैं

K=P^2/2m

कार्य ऊर्जा प्रमेय

कण पर आरोपित सभी बलों द्वारा किए गए कार्य का योग इसकी गतिज ऊर्जा में परिवर्तन के बराबर होता है| कार्य ऊर्जा प्रमेय लगाते समय हमें कुल कार्य की गणना करने के लिए बाह्य तथा आंतरिक दोनों बलो का उपयोग करना चाहिए।

कार्य ऊर्जा शक्ति

  • कार्य= बल×बल की दिशा मे विस्थापन
  • कार्य एक अदिश राशि है
  • कार्य का SI मात्रक न्यूटन मीटर होता है
  • शक्ति का SI मात्रक वाट होता है
  • ऊर्जा का SI मात्रक जूल है

ऊर्जा का रूपांतरण

  • सौर सेल = प्रकाश ऊर्जा को विधुत ऊर्जा मे
  • डायनेमो = यांत्रिक ऊर्जा को विधुत ऊर्जा मे
  •  विधुत मोटर = विधुत ऊर्जा को यांत्रिक ऊर्जा मे

June 28, 2020

What Is Heat ऊष्मा का उपयोग व कार्य क्या क्या है???

ऊष्मा (Heat)

ऊष्मा एक प्रकार की ऊर्जा है । जब किसी वस्तु को गर्म करते है तब वह ऊष्मा ग्रहण करती है । ऊष्मा को न तो बनाया जा सकता हे न ही नष्ट किया जा सकता हे ऊष्मा को सिर्फ एक निकाय से दूसरे निकाय में स्तान्तरित किया जा सकता हे ऊष्मा का प्रमाण सर्व प्रथम रदरफोर्ड ने दिया था ।

उष्मा का मात्रक कैलोरी व किलो कैलोरी मे होता है । S.I. पद्धति मे उष्मा का मात्रक जूल है ।

1 कैलोरी =4.18 या 4.2 जूल
1 किलो कैलोरी=4.18 ×1000 जूल

ताप मापने की इकाई डिग्री सेल्सियस, फारेनहाइट, केल्विन इत्यादि है।

Heat

उष्मा मापन की 3 इकाइयां होती है

  • 1 कैलोरी
  • अंतर्राष्ट्रीय कैलोरी
  • BTU ब्रिटिश थर्मल यूनिट

एक कैलोरी- 1 ग्राम पानी का तापमान 1 डिग्री बढ़ाने के लिए आवश्यक ऊर्जा एक कैलोरी होती है

अंतरराष्ट्रीय कैलोरी- 1 ग्राम पानी का तापमान 14.5℃ से 15.5℃ बढ़ाने के लिए ऊर्जा आवश्यक ऊर्जा अंतरराष्ट्रीय कैलोरी कहलाती है

BTU ब्रिटिश थर्मल यूनिट – 1पौडं जल का तापमान 1 डिग्री फारेनहाइट बढ़ाने के लिए आवश्यक ऊर्जा 1BTU कहलाती है

  • एक पाउंड =453 ग्राम
  • 1 BTU =252 कैलोरी

कोयले की ऊष्मा B T U में मापी जाती है ऊष्मा मापन की सबसे बड़ी इकाई B. T. U. है

तापक्रम पैमाने

C/5=F-32/9=R/4=T-273/5

विशिष्ट उष्मा – किसी पदार्थ के एकांक द्रव्यमान का ताप 1℃ बढांने के लिए आवश्यक उष्मा को उस पदार्थ कि विशिष्ट उष्मा कहते है ।  विशिष्ट उष्मा का मान 0 से लेकर अनन्त तक हो सकता है लेकिन कभी ऋणात्मक नही हो सकता।

त्रिक बिन्दु- वह ताप व दाब जहाँ पर उर्ध्वपातन ,संगलन व वाष्पन वक्र मिलते है अर्थात् तीनो अवस्थाएँ सहवर्ती होती है, उसे पदार्थ का त्रिक बिन्दु कहते है ।

गुप्त उष्मा- पदार्थ के एकांक द्रव्यमान की अवस्था परिवर्तन करने के लिए आवश्यक उष्मा को को पदार्थ की गुप्त उष्मा कहते है ।

ऊष्मा के प्रभाव- ऊष्मा के प्रभाव से पदार्थ में कई बदलाव आते हैं जो यदा कदा स्थाई होते है और कभी-कभी अस्थाई।

ऊष्मीय प्रसार – गर्म करने पर ठोस, द्रव या गैस के आकार में विस्तार होता है। पर वापस ठंढा करने पर ये प्रायः उसी स्वरूप में आ जाते हैं। इस कारण से इनके घनत्व में भी बदलाव आता है।

अवस्था में परिवर्तन – ठोस अपने द्रवानांक पर द्रव बन जाते हैं तथा अपने क्वथनांक पर द्रव गैस बन जाते हैं। यह क्वथनांक तथा द्रवनांक ठोस तथा द्रव के कुल दाब पर निर्भर करता है। कुल दाब के बढ़ने से क्वथनांक तथा द्रवनांक भी बढ़ जाते हैं।

विद्युतीय गुणों में परिवर्तन – तापमान बढाने पर यानि गर्म करने पर किसी वस्तु की प्रतिरोधक क्षमता (Resistivity) जैसे गुणों में परिवर्तन आता है। कई डायोड तथा ट्रांज़िस्टर उच्च तापमान पर काम करना बंद कर देते हैं।

रसायनिक परिवर्तन – कई अभिक्रियाएं तापमान के बढ़ाने से तेज हो जाती हैं। उदाहरण स्वरूप 8400C पर चूना पत्थर का विखंडन –
CaCO3 → CaO + CO2

ऊष्मा का एक स्थान से दूसरे स्थान को संचरण तीन विधियों से होता है-

  • चालन (Conduction)
  • संवहन (Convection)
  • विकिरण (Radiation)

तापमान

गर्म या ठंढे होने की माप तापमान कहलाता है जिसे तापमापी यानि थर्मामीटर के द्वारा मापा जाता है। लेकिन तापमान केवल ऊष्मा की माप है, खुद ऊष्मीय ऊर्जा नहीं। इसको मापने के लिए कई प्रणालियां विकसित की गई हैं

जिनमें सेल्सियस(Celsius), फॉरेन्हाइट(Farenhite) तथा केल्विन(Kelvin) प्रमुख हैं। इनके बीच का आपसी सम्बंध इनके व्यक्तिगत पृष्ठों पर देखा जा सकता है।

ऊष्मा मापने का मात्रक कैलोरी है। विज्ञान की जिस उपशाखा में ऊष्मा मापी जाती है, उसको ऊष्मामिति (Clorimetry) कहते हैं। इस मापन का बहुत महत्व है। विशेषतया विशिष्ट ऊष्मा का सैद्धांतिक रूप से बहुत महत्व है और इसके संबंध में कई सिद्धांत प्रचलित हैं। ऊष्मा Heat का एस आई मात्रक जूल है।

महत्वपुर्ण:-

पानी 0°C पर जमता है। पानी 100°C पर उबलता है।

मनुष्य के शरीर का सामान्य तापमान – 37°C / 98°F होता है।

Heat Heat Heat Heat Heat

June 26, 2020

What Is Pressure दाब क्या है व इसके कार्य???

दाब

किसी सतह के इकाई क्षेत्रफल पर लगने वाले अभिलम्ब बल को दाब (Pressure) कहते हैं। अत: क्षेत्रफल जितना बड़ा होगा दाब उतना ही कम होगा और क्षेत्रफल जितना कम होगा दाब उतना ही आधिक होगा इसकी इकाई ‘न्यूटन प्रति वर्ग मीटर’ होती है जिसे अब पास्कल कहते है

Pressure

Pressure

पास्कल (Pa), बराबर एक न्यूटन प्रति वर्ग मीटर (N·m−2 या kg·m−1·s−2). इकाई का यह विशेष नाम 1971 में जुडा़ था। यह मात्रक द्रवो का विस्तृत अध्ययन करने वाले वैज्ञानिक ब्लेज़ पास्कल के सम्मान में रखा गया है दबाव एक अदिश राशि है इसकी SI इकाई  पास्कल है;

दाब p= h × d × g

1 Pa = 1 N/m2

दाब = पृष्ठ के लम्बवत् बल / पृष्ठ का क्षेत्रफल

किसी वस्तु का क्षेत्रफल जितना कम होता है, वह सतह पर उतना ही अधिक दाब डालती है, इसके दैनिक जीवन में अनेक उदाहरण देखने को मिलते हैं, जैसे दलदल में फंसे व्यक्ति को लेट जाने की सलाह दी जाती है ताकि उसके शरीर का अधिक क्षेत्रफल दलदल के सम्पर्क में आ जाय व नीचे की ओर कम दाब लगे। कील का निचला हिस्सा नुकीला बनाया जाता है ताकि क्षेत्रफल कम होने से वह सतह पर अधिक दाब डाल सके व ठोंकने पर आसानी से गड़ जाये।

दाब,  ताप और आयतन में संबंध आदर्श गेस समीकरण द्वारा दिया जाता है

PV=nRT

P=pressure
V=volume
n=no. Of moles
R= constant
T=temprature

इस समीकरण का उपयोग करके हम निम्न नियम उत्पादित कर सकते है::

बॉयल का नियम { ट्रिक गर्मी से संबधित ह इसलिए ताप को स्थिर} – इसके अनुसार यदि तापमान को स्थिर रखते हुए आयतन को बढ़ाया जाए तो दाब में कमी होती है अर्थात दाब और आयतन एक दूसरे के व्युत्क्रमानुपाती होते ह।

P $ (1/V)

चार्ल्स का नियम:: इसके अनुसार यदि दाब को स्थिर रखते हुए ताप को बढ़ाया जाए तो आयतन में वृद्धि होती है अर्थात आयतन और तापमान एक दूसरे के समानुपाती होते हैं

V $ T

आवोगाद्रो का नियम :: इस नियम के अनुसार किसी निश्चित किसी गैस के निश्चित वॉल्यूम निश्चित तापमान निश्चित दाब पर गैसों में मोलो की संख्या समान होती है।

STP : stands for temperature and pressure

I.e. air at 0°C (273.15 K, 32°F) and pressure 10^5 pascals (1 bar).

संकेतों के अर्थ

  • T – ताप
  • N – मोलों की संख्या
  • n – अणुओं की संख्या
  • m – गैस का द्रव्यमान
  • ρ – घनत्व
  • V – आयतन
  • Vm – मोलर आयतन
  • kB – बोल्ट्जमान नियतांक
  • R – सार्वत्रिक गैस नियतांक
  • Rs – विशिष्ट गैस नियतांक

पास्कल का सिद्धान्त

जल-स्तम्भ के दबाव के कारण पीपे (barrel) का फटना। सन् 1646 में पास्कल ने यही प्रयोग किया था। पास्कल का सिद्धान्त या पास्कल का नियम द्रवस्थैतिकी में दाब से सम्बन्धित एक महत्वपूर्ण सिद्धान्त है। इसे फ्रांसीसी गणितज्ञ ब्लेज पास्कल ने प्रतिपादित किया था। यह सिद्धान्त इस प्रकार है –

सब तरफ से घिरे तथा असंपीड्य ( in compressible ) द्रव में यदि किसी बिन्दु पर दाब परिवर्तित किया जाता है (घटाया या बढ़ाया जाता है) तो उस द्रव के अन्दर के प्रत्येक बिन्दु पर दाब में उतना ही परिवर्तन होगा।

वायुमंडलीय दाब 

पृथ्वी के एक निश्चित क्षेत्रफल पर वायुमंडल की सभी परतों द्वारा पढ़ने वाला दाब ही वायुमंडलीय दाब कहलाता है । अधिकांश परिस्थितियों मैं वायुमंडलीय दाब का लगभग सही अनुमान मापन बिंदु पर उसके ऊपर वाली हवा के भार द्वारा लगाए गए द्रव स्थैतिक द्वारा लगाया जाता है ।

स्थान बदलने पर वायुमंडलीय दाब का मान कम या अधिक होना उन स्थानों के ऊपर वायुमंडलीय स्तंभों के द्रव्यमान का कम या अधिक होना है । इसीलिए पृथ्वी तल से ऊंचाई पर जाने से वायुमंडलीय दाब कम हो जाता है और गहराई में जाने पर अधिक हो जाता है !

समुद्र तल पर वायुमंडलीय दाब का मान 1.0135×100000 Pa होता है जिसे 1atm से व्यक्त करते हैं 

बैरोमीटर या वायुदाबमापी एक ऐसा उपकरण है जिसकी सहायता से किसी स्थान पर वायुमंडलीय दाब की माप की जाती है वायुदाब मापने के लिए सामान्यतः पारे का प्रयोग किया जाता है !

समुद्र तल पर बैरोमीटर मैं पारे के स्तंभ की ऊंचाई 76 सेंटीमीटर के लगभग होती है!  जो पारे के 76 सेमी लंबे कॉलम के द्वारा 0℃ पर 45° अक्षांश पर समुद्र तल पर लगाया जाता है यह एक वर्ग सेमी अनुप्रस्थ काट वाले पारे के 76 सेमी लंबे कॉलम के भार के बराबर होता है मौसम विज्ञान में दाब का मात्रक बार लिया जाता है।

1 bar =2 kPa

June 25, 2020

What Is Motion गति क्या है व इसके कार्य???

गति

यदि कोई वस्तु अन्य वस्तुओं की तुलना में समय के सापेक्ष में स्थान परिवर्तन करती है, तो वस्तु की इस अवस्था को गति ( motion ) कहा जाता है।

गति

गति के प्रकार ( Types of Motion ):-

  • सरल रेखीय गति  ( Simple linear motion )
  • वृत्तीय गति ( Circular motion )
  • ‎घूर्णन गति ( Rotation speed )
  • दोलन गति ( Oscillation speed )
  • आवर्ती गति ( Recurring speed )
  • प्रक्षेप्य गति ( projectile motion )

सरल रेखीय गति ( Simple linear motion ):- जब कोई वस्तु सदैव एक सरल रेखा में गति करती है तो उसकी गति सरल रेखीय गति कहलाती है। जैसे- सीधी सड़क पर चलती हुई कार की गति

वृत्तीय गति ( Circular motion ):- जब कोई वस्तु वृत्ताकार मार्ग पर चलती है। तो उसकी गति वृतीय गति कहलाती हैं। जैसे-सूर्य के चारों ओर पृथ्वी की गति, पृथ्वी के चारों ओर चन्द्रमा की गति, कोल्हू चलाते हुए बैल की गति,

घुर्णन गति ( Rotation speed ) :- वैसी गति जिसमे कोई कण किसी बिंदु के चारो ओर बिना स्थान परिवर्तन के घूमता हो, तो उस प्रकार की गति को घूर्णन गति कहते हैं! जैसे- छत के पंखे की गति, चक्की के पाटों की गति, लट्टू की गति आदि घूर्णी गति के उदाहरण है।

दोलन गति ( Oscillation speed ): जब कोई वस्तु अपने माध्य स्थिति के दोनों ओर गति करती है तो इस प्रकार की गति को दोलन गति कहते हैं। या जब कोई वस्तु किसी निश्चित बिंदु के आगे-पीछे या ऊपर-नीचे गति करती है, तो इस प्रकार की गति को दोलनी गति कहते हैं जैसे-झूले में झूलते हुए बच्चे की गति , किसी स्प्रिंग में लटके हुए पिण्ड की गति, दीवार घड़ी के पेन्डुलम की गति

आवर्ती गति ( Recurring speed ):- जब कोई पिंड नियत समय अंतराल पश्चात अपनी गति की पुनरावृती करता है तो उसमें होने वाली गति को आवर्ती गति कहते है। जैसे- एक समान वर्तुल गति, सरल लोलक की गति, झुला झुलते बालक की गति, स्प्रिंग को खींचने पर होने वाली गति

प्रक्षेप्य गति ( projectile motion ) :- जब किसी पिंड को कुछ प्रारंभिक वेग देकर फेंका जाता है तो वह गुरुत्वीय बल के प्रभाव में परवलयाकार पथ पर गति करने लगता है। परवलयाकार पथ में होने वाली इस गति को प्रक्षेप्य गति कहते है। जैसे:- किसी खिलाड़ी द्वारा फेंकी गेंद की गति, बन्दूक से छोड़ी गयी गोली की गति आदि प्रक्षेप्य गति के उदाहरण है।

गति के समीकरण ( Speed ​​Equation )

किसी वस्तु के वेग, त्वरण, समय तथा दूरी के बीच स्थापित संबंधों को गति का समीकरण कहा जाता है। गति के समीकरण मुख्य रूप से तीन तरह के होते हैं-

  • v=u+atv=u+at ————(i)
  • s=ut+12 at2s=ut+12 at2 ——— (ii)
  • 2as=v2−u22as=v2-u2 ————– (iii)

जहाँ uu = प्रारंभिक वेग

vv= अंतिम वेग

ss = दूरी

aa = त्वरण

tt = समय

  • समीकरण (i) वेग–समय के संबध को दिखालाता है।
  • समीकरण (ii) स्थिति तथा समय के संबंध को दिखलाता है।
  • समीकरण (iii) स्थिति तथा वेग के बीच संबंध को दिखलाता है।

संवेग ( Momentum )

किसी वस्तु के संवेग में परिवर्तन की दर उस पर आरोपित बलके समानुपाती होती हैं और उसी दिशा में होती हैं जिसमें बल लगाया जाता हैं।

P = mv

P = m(v-u)/t

जहा P = संवेग
m = द्रव्यमान
v = अंतिम वेग
u = प्रारम्भिक वेग

पलायन वेग ( Escape Velocity )

वह न्यूनतम वेग जिससे किसी वस्तु को फेंकने पर वह गुरुत्व क्षेत्र को पार कर अंतरिक्ष में चली जाती है और लौटकर पृथ्वी पर नहीं आती , पलायन वेग कहलाता है । पृथ्वी के लिए इसका मान 11.2 किलोमीटर प्रति सेकंड होता है।

June 24, 2020

What Is Steady Electricity स्थिर विद्युत

स्थिर विद्युत

स्थिर विद्युत

घर्षण आवेश उत्पन्न नहीं करता है । वस्तुतः घर्षण की प्रक्रिया में दो विद्युत रोधी वस्तुओं में एक वस्तु से दूसरी वस्तु में कुछ विशिष्ट आवेश कणों का स्थानांतरण होता है ।फलस्वरुप एक वस्तु धनावेशित और दूसरी ऋण आवेशित हो जाती है।

विजातीय आवेश एक दूसरे को आकर्षित तथा सजातीय आवेश एक दूसरे को प्रतिकर्षित करते हैं! आवेश संरक्षण नियमानुसार विलगित निकायो में कुल आवेश निकाय में किसी प्रक्रिया संपन्न होने के उपरांत भी परिवर्तित नहीं होता है ।

आवेश अदिश राशि है किसी निकाय में कुल आवेश निकाय मैं इनके बीजगणितीय योग से प्राप्त होता है विद्युत विभव उस कार्य के बराबर है जो इकाई धनावेश को अनंत से विद्युत क्षेत्र में लाने में करना होता है । इसकी इकाई वोल्ट है ।

विद्युत क्षेत्र में इकाई धनावेश को एक बिंदु से दूसरे बिंदु तक ले जाने में किए गए कार्य को इन बिंदुओं के बीच विद्युत विभवांतर कहते हैं !

विधुत स्थितिज ऊर्जा ( Stateless Potential Energy ) :- अनंत से किसी आवेश को दूसरे आवेश के विद्युत क्षेत्र में इससे R दूरी पर लाने में दूसरे आवेश की तीव्रता के विरुद्ध किया गया कार्य, आवेश तंत्र की स्थितिज ऊर्जा होती है ।

समविभव पृष्ठ :- वह पृष्ठ जिसके किन्ही दो बिंदुओं के बीच विभवांतर शून्य हो ।

विद्युत द्विध्रुव :-वह निकाय जिसमें दो बराबर परंतु विपरीत प्रकार के बिंदु आवेश एक दूसरे से अल्प दूरी पर स्थित होते हैं!

विद्युत द्विध्रुव आघूर्ण:- द्विध्रुव के आवेश के परिमाण एवं इसके दो बिंदु आवेशों के मध्य दूरी के गुणनफल को कहते हैं ! द्विध्रुव आघूर्ण की दिशा ऋण आवेश से धन आवेश की ओर इंगित होती है!

स्थिर विद्युत स्थिर विद्युत स्थिर विद्युत स्थिर विद्युत