Category

रामायण

August 8, 2020

Krishna Janmashtami 2020: History

Janmashtami 2020

Lord Krishna was born at midnight, hence devotees observe a fast and sing devotional songs for him as the clock strikes twelve.

As a part of the ritual, statues of baby Krishna are washed and placed for worship.

Devotees then break their fast and share food and sweets.

The birth of Lord Krishna, Janmashtami, is celebrated with pomp and fervour throughout India.

Devotees usually observe fasts, sing devotional songs in praise of the lord, participate in Dahi Handi celebrations,

hold ceremonies in temples where Lord Krishna is welcomed each year and more.

The largest celebration of this

August 8, 2020

Know about the history of Kedarnath ??

Giriraj is situated on the top of the Himalayas called Kedar, the highest Kedareswara Jyotirlinga among the twelve Jyotirlingas of the country. Kedarnath Dham and temple are surrounded by mountains on three sides. On one side there is about 22 thousand feet high Kedarnath, on the other side there is 21 thousand 600 feet high Khetkund and on the third side is 22 thousand 700 feet high Bharatkund.

Not only three mountains but also a confluence of five rivers is here – Mandakini, Madhuganga, Kshirganga, Saraswati and Swarnagouri. Some of these rivers no longer exist, but Mandakini, a tributary …

August 8, 2020

जानिए केदारनाथ के इतिहास के बारे में ??

गिरिराज हिमालय की केदार नामक चोटी पर स्थित है देश के बारह ज्योतिर्लिंगों में सर्वोच्च केदारेश्वर ज्योतिर्लिंग। केदारनाथ धाम और मंदिर तीन तरफ पहाड़ों से घिरा है। एक तरफ है

करीब 22 हजार फुट ऊंचा केदारनाथ, दूसरी तरफ है 21 हजार 600 फुट ऊंचा खर्चकुंड और तीसरी तरफ है 22 हजार 700 फुट ऊंचा भरतकुंड।

न सिर्फ तीन पहाड़ बल्कि पांच ‍नदियों का संगम भी है यहां- मं‍दाकिनी, मधुगंगा, क्षीरगंगा, सरस्वती और स्वर्णगौरी।

इन नदियों में से कुछ का अब अस्तित्व नहीं रहा लेकिन अलकनंदा की सहायक मंदाकिनी आज भी मौजूद है। इसी के किनारे है केदारेश्वर धाम।

यहां …

August 8, 2020

The philosophy of Mahakaleshwar mahakal Jyotirlinga?

If you are going to visit Baba Mahakaleshwar, one of the 12 Jyotirlingas built in the 6th century BCE, located near the holy Salila Shipra beach in Ujjain, the pilgrimage of Madhya Pradesh, then know something important.

* Kaal has two meanings – time and death. Mahakal is called ‘Mahakal’ because in ancient times, the standard time of the entire world was determined from here.

That is why this Jyotirlinga is named ‘Mahakaleshwar’. According to the legend, the establishment of this Shivling is associated with the legend of King Chandrasen and Gop-Balak.

Alusubah Bhasma Aarti is performed daily during the …

August 8, 2020

महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग के दर्शन के महत्व क्या क्या है जाने ?

यदि आप मध्यप्रदेश की तीर्थनगरी उज्जैन में पुण्य सलिला शिप्रा तट के निकट स्थित 6ठी शताब्दी ईसा पूर्व में निर्मित 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक बाबा महाकालेश्वर के दर्शन करने जा रहे हैं तो कुछ जरूरी बात अवश्य जान लें।  

*काल के दो अर्थ होते हैं- एक समय और दूसरा मृत्यु। महाकाल को ‘महाकाल’ इसलिए कहा जाता है कि प्राचीन समय में यहीं से संपूर्ण विश्व का मानक समय निर्धारित होता था

इसीलिए इस ज्योतिर्लिंग का नाम ‘महाकालेश्वर’ रखा गया है। पौराणिक कथा के अनुसार इस शिवलिंग की स्थापना राजा चन्द्रसेन और गोप-बालक की कथा से जुड़ी है।

कालों के …

July 26, 2020

Where is the world’s largest temple located?

World’s largest Hindu temple

The world’s largest Hindu temple complex and the world’s largest religious monument are located in Cambodia.

It is in Ankor, Cambodia, whose old name was ”Yashodharpur”.

##It was built during the reign of Emperor Suryavarman II (1112–53 CE).

http://Cambodia has a large number of Hindu and Buddhist temples, which testify that Hinduism was at its peak here at some point. Mythological period Cambodia yesterday’s Kampuchea and today’s http://Cambodia.

First he was a Hindu and then a Buddhist 27 kings ruled over centuries.

Some stayed Hindu, some Buddhists.

This is the reason why idols of deities …

July 26, 2020

विश्व का सबसे बड़ा मंदिर कहां स्थित है???

विश्व का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर

विश्व का सबसे बड़ा हिन्दू मंदिर परिसर तथा विश्व का सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक कंबोडिया में स्थित है। यह कंबोडिया के अंकोर में है जिसका पुराना नाम ‘यशोधरपुर’ था।

इसका निर्माण सम्राट सूर्यवर्मन द्वितीय (1112-53ई.) के शासनकाल में हुआ था। यह विष्णु मन्दिर है जबकि इसके पूर्ववर्ती शासकों ने प्रायः शिवमंदिरों का निर्माण किया था।

http://कंबोडिया में बड़ी संख्या में हिन्दू और बौद्ध मंदिर हैं, जो इस बात की गवाही देते हैं कि कभी यहां भी हिन्दू धर्म अपने चरम पर था। पौराणिक काल का कंबोजदेश कल का कंपूचिया और आज का http://कंबोडिया। …