Month

May 2020

May 31, 2020

राजस्थान में जनजाति आंदोलन – Tribal Movement of Rajasthan

राजस्थान में जनजाति आंदोलन

:- राजस्थान में मुख्य रूप से तीन जनजातीय या आदिवासी आंदोलन हुए इनमें प्रमुख आंदोलन निम्न है।

  • भील जनजातीय आंदोलन
  • मीणा जनजातीय आंदोलन
  • मेव जनजातीय आंदोलन

• राजस्थान में जनजाति या आदिवासी आंदोलनों में इन आंदोलनों के अलावा और भी बहुत छोटे-छोटे आंदोलन हुए हैं। तथा राजस्थान में प्रमुख जन आंदोलन एवं क्रांतिकारी घटनाएं भी हुई हैं। इन आंदोलन और घटनाओं के बारे में हम विस्तार से आपको इस लेख के माध्यम से बताएंगे इसलिए आप ध्यान से इस लेख को पढ़ें।

राजस्थान के जनजातीय या आदिवासी आंदोलन

भील आंदोलन या विद्रोह (Bhil Movement or Rebellion)

May 30, 2020

पर्यावरण संबंधी आंदोलन Environmental Movement

खेजड़ली आंदोलन

वृक्षों की अंधाधुंध कटाई के विरुद्ध प्रथम जन आंदोलन का उदय राजस्थान के खेजड़ली ग्राम में जो जोधपुर से 25 किलोमीटर दूर है 1731 में हुआ इस ग्राम व उसके आसपास के क्षेत्र में विश्नोई जाति की बहुलता है इस ग्राम की संस्कृति का आधार 20+9 सूत्र है जिनमें से एक महत्वपूर्ण सूत्र वृक्षों की रक्षा करना है

खेजड़ली ग्राम से जलाने की लकड़ी प्राप्त करने के लिए जोधपुर के तत्कालीन महाराजा द्वारा आदेश दिए गए इस आदेश के तहत वृक्षों के काटे जाने के विरोध में एक साहसी महिला अमृता देवी के नेतृत्व में आंदोलन छेड़ा गया…

May 29, 2020

राजस्थान में किसान व जनजाति और आदिवासी आंदोलन

  • देखिए साथियों व मित्रों राजस्थान में किसान आंदोलन यह टॉपिक परीक्षा की दृष्टि से बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसलिए आप ध्यान से इस टॉपिक को पढ़ें देखिए आपको मजा आएगा राजस्थान के बहुत ही महत्वपूर्ण किसान आंदोलन हुए हैं। जिनमें जनजातीय आंदोलन या आदिवासी आंदोलन बहुत ही महत्वपूर्ण है। सबसे पहले राजस्थान में किसान आंदोलन की रूपरेखा देखेंगे किस तरह से यह आंदोलन आगे बढ़ा इसको आप ध्यान से पढ़ें इसमें आपको कंप्लीट जानकारी मिलेगी।

राजस्थान में किसान आंदोलन से संबंधित महत्वपूर्ण बातें

  • भारत की रियासत में कृषि योग्य भूमि का मालिक जमीदार को माना गया। परंतु इस जमीन पर

May 28, 2020

सामाजिक व धार्मिक पुनर्जागरण व आंदोलन के बारे में कंप्लीट जानकारी

  • भारत में लगभग 18वीं शताब्दी में राष्ट्रीय पतन के समय आर्थिक व धार्मिक रूप से भारतीय समाज प्राचीन रूढ़िवादी में जकड़ा हुआ था। देश में महिलाओं की दयनीय स्थिति थी, कठोर जाति प्रथा, आधारहीन सामाजिक रीति रिवाज तथा बाल विवाह, बाल हत्या, विधवाओं के साथ अत्याचार आधी कुप्रथाओं में आमूलचूल परिवर्तन हुआ। पुनर्जागरण के द्वारा हमारे देश में भी सुधार प्रारंभ करने की प्रेरणा दी अतः इसी समय 19वी व 20 वीं सदी में धर्म सुधार आंदोलन प्रारंभ हुआ। इस समय महान समाज व धर्म सुधारकों ने हमारे समाज की कमियां में बुराइयों का विश्लेषण करके उन्हें दूर करने के

May 27, 2020

मानव एवं वन्य जीव विवाद क्या है? Human And Wildlife Conflicts

मनुष्य की गलत धारणाओं के कारण वन्य प्रजातियों के विलुप्त होने का खतरा बढ़ा है इसका प्रत्यक्ष प्रभाव समस्त मानव जगत पर पड़ता है प्राचीन काल में वन्य जीव एवं मानव के बीच मित्रता का संबंध था तथा ऋषि-मनियों के आश्रम में वन्य जीव मुक्त रूप से विचरण करते थे हमारी धार्मिक मान्यताओं मैं भी विभिन्न पेड़ पौधे एवं जीव जंतु पूजनीय थे किंतु मानव सभ्यता के विकास के साथ साथ वन्य जीव एवं मानव के बीच सद्भावना घटने लगी एवं धार्मिक तथा नैतिक मूल्यों में कमी आने लगी जिससे वन्यजवों के अस्तित्व पर संकट उत्पन्न होने लगा वन्य जीवन …

May 26, 2020

वन्यजीवों को खतरा क्या है? Threats to Wildlife

सामान्य अर्थ में वन्य जीव जंतुओं के लिए प्रयुक्त होता है जो प्राकृतिक आवास में निवास करते हैं भारत जैव विविधता में से संपन्न राष्ट्र है यहां जलवायु एवं प्राकृतिक विविधता के कारण लगभग 48 हजार पादप एवं लगभग 80 हजार से अधिक जीव जंतुओं की जातियां पाई जाती हैं

वन्यजीवों के विलुप्ती के कारण

इसके विलुप्ती के कारण दो कारक हैं

  1. प्राकृतिक कारक
  2. मानव जनित कारक

प्राकृतिक कारण (Natural Causes)

भूकंप सूखा ज्वालामुखी के फटने से अथवा धरती पर उल्का पिंडों के गिरने से क्षेत्र विशेष में उपलब्ध जातियां नष्ट होकर विलुप्त हुई पृथ्वी पर अनुवांशिकी रूप से भिन्न …

May 25, 2020

भारत में राष्ट्रवाद का उदय और विकास/Rise of Indian Nationalism

राष्ट्रवाद-Nationalism राष्ट्रवाद वह भावना है। जो लोगों को एक साथ एकता के सूत्र में बांधती है व स्वराज के प्रति एक ठोस आधार प्रदान करती है। यह लोगों में चेतना प्रदान करने में समाज सुधार को, राष्ट्रवादी नेताओं, व राजनीतिक संस्थाओं, शिक्षा प्रणाली आदि तत्वों का योग रहा है।

कुछ महत्वपूर्ण शब्द

  • राष्ट्रवाद
  • समाज सुधारक
  • शिक्षा प्रणाली
  • समाचार पत्र
  • राष्ट्रीय आंदोलन

भारत में राष्ट्रवाद के उदय के कारण और विकास- CAUSES OF THE RISE OF NATIONALISHM

  • भारत में राष्ट्रीय उदय के कारण और विकास में अनेक कारणों का योग रहा है। अध्ययन की सुविधा की दृष्टि से इन कारणों को

May 25, 2020

Rajasthan Police SI Cut Off & Marks 2018-19 ?

  • Rajasthan Police SI Cut Off Marks
  • 2018-19 RPSC Sub Inspector Cut Off Marks 2019 Download Rajasthan PSC Platoon Commander Exam Cut Off Marks 2019
  • Rajasthan PSC Sub Inspector Category Wise Merit List RPSC SI Cut Off Marks 2018-19 RPSC SI Physical Exam Cut Off Marks 2018-19 RPSC SI Cut Off 2019

Rajasthan Police SI Cut Off Marks 2018

Will Soon Announce the Result of Physical Exam of Sub-Inspector (SI) and Platoon Commander Posts…. Candidates Can Check Result from Below Link

About Recruitment & Advt. No. – 05/SI-PC/परीक्षा/2016-17

RPSC

has recently re-announced the recruitment of Various 330 Posts of Sub-Inspector (SI) …

May 25, 2020

ओजोन परत का क्षरण क्या है ? Ozone Layer Depletion

ओजोन परत क्या है-O3

ओजोन ऑक्सीजन का ही एक दूसरा अपररूप है परमाणु संख्या 2 से ऑक्सीजन स्थाई रूप में होती है किंतु ओजोन में 3 परमाणु होते हैं अतः यह अपेक्षाकृत कम स्थाई होती है

यह वायुमंडल के समताप मंडल में पृथ्वी की सतह से 30 किलोमीटर की ऊंचाई पर एक सघन वह लगभग 20 किलोमीटर मोटाई का एक गहरा होता है

यह गैस गुरुत्वाकर्षण बल के कारण एक परत के रूप में पृथ्वी के चारों ओर तनी रहती है

इसी ओजोन परत के कारण पृथ्वी को विलक्षण ग्रह होने का दर्जा मिलता है

  • समताप मंडलिय ओजोन लगातार उत्पन्न

May 24, 2020

वैश्विक ताप वृद्धि क्या है? Global Warming

वैश्विक ताप वृद्धि

मनुष्य द्वारा किए गए प्रकृति से छेड़छाड़ अतीव औद्योगिकीकरण एवं प्रत्येक क्षेत्र में बढ़ रहे प्रदूषण के कारण पृथ्वी के तापमान में उत्तरोत्तर वृद्धि हो रही है विश्व का औसतन तापमान पिछले कई वर्षों से तेजी से बढ़ा है यदि तापमान की वृद्धि दर ऐसी ही रही तो अगले 100 वर्षों में पृथ्वी का तापमान 3 से 5 डिग्री सेल्सियस बढ़ जाएगा पृथ्वी का तापमान बढ़ने का प्रमुख कारण जलवायु परिवर्तन है

ग्लोबल वार्मिंग के मुख्य कारण

  1. हरित हरित गृह प्रभाव
  2. हरित गृह गैस
  3. मानव क्रियाकलापों का योगदान

हरित गृह प्रभाव ठंडे प्रदेशों में गर्मी बनाए रखने …